इस सैलून में किताबें पढ़ कर बाल कटवाने पर मिलेगी छूट

विभव देव शुक्ला

नए साल का पहला दिन है, फिलहाल लोगों के पास खुश होने की सबसे बड़ी वजह यही है कि उन्हें नई शुरुआत करने का मौका मिलेगा। जगह-जगह से ऐसी ख़बरें आ रही हैं जो आम लोगों के लिए कुछ नया सीखने या करने का एक बहुत बड़ा ज़रिया है। ऐसी ही एक खबर आ रही है तमिलनाडु राज्य के तूतीकोरिन नाम की जगह से। घटना में एक ऐसी कोशिश है जिसे मिसाल के तौर पर पेश किया जाना गलत नहीं होगा।

सैलून के भीतर किताबें
पोन मरियप्पन तमिलनाडु के तूतीकोरिन में एक सैलून के मालिक हैं। बाकी सैलून की तरह उनके सैलून में भी बाल काटे जाते हैं और पोन खुद यह काम करते हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि जब उनके सैलून में भी महज़ बाल ही काटे जाते हैं तो इसमें नया क्या है? दरअसल पोन ने अपने सैलून में एक पुस्तकालय बना रखा है और उस पुस्तकालय में हर तरह की किताबें हैं। इतना ही नहीं उनके पुस्तकालय में तमाम अहम विषयों की किताबें हैं।

पढ़ने की आदत में गिरावट
नए साल के मौके पर पोन ने अपने ग्राहकों के लिए एक अनूठी योजना भी बनाई। जिसके तहत उनके सैलून में बने पुस्तकालय से जो लोग किताबें पढ़ेंगे उन्हें बाल कटवाने के रुपयों में छूट भी मिलेगी। समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए पोन ने अपने सैलून के भीतर बने पुस्तकालय के बारे में कई बातें बताईं। पोन का कहना था कि आज कल लोगों में पढ़ने की आदत और इच्छा दोनों ही बहुत कम हो चुकी है।

जो किताब पढ़ेगा उसे छूट मिलेगी
लोगों में किताब पढ़ने की आदत में कमी आने का एक बड़ा कारण है स्मार्टफोन का उपयोग बहुत अधिक बढ़ जाना। नए साल में मैं बाल काटने की दरें बढ़ाने वाला हूँ लेकिन जो लोग मेरे सैलून में आकर किताबें पढ़ेंगे उन्हें छूट मिलेगी। इससे कदम से ऐसे लोगों की मदद भी हो जाएगी जिनके पास किताब खरीदने के रुपए नहीं हैं। साथ ही उनके व्यक्तित्व का विकास होगा और वह आने वाले समय में बेहतर कर पाएंगे।

Next Post

चोरी के इस किस्से को सुन आपको दुःख से ज़्यादा हंसी आएगी

Wed Jan 1 , 2020
नेहा श्रीवास्तव,इंदौर। रांझणा मूवी देखी है, जब कुंदन (धनुष) को हॉस्टल में घुसते हुए जेएनयू के कुछ छात्र पकड़ लेते हैं तो वो बताता है मैं चोर हूँ। सब पूछते हैं चोर क्यों बने कुंदन का जवाब ग़रीबी होती है। फिर रात भर सोचने के बाद भी जब वो किसी […]