जनवरी-2020 में सबसे ज्यादा भारत में जन्म लेंगे बच्चे

न्यूयार्क

दुनियाभर में 392078 बच्चे जन्म ले सकते हैं इस महीने

यूनिसेफ ने नए साल पर दुनिया भर में जनवरी माह में पैदा होने वाले बच्चों को लेकर एक आंकड़ा जारी किया है। यूनिसेफ की रिपोर्ट के अनुसार करीब साल 2020 के पहले माह में करीब 392078 बच्चे जन्म ले सकते हैं।

यूनिसेफ की एक्जीक्यूटिव डारेक्टर हेनरीटा फोरे ने बताया कि एक जनवरी 2020 को दुनिया में 392078 बच्चे जन्म ले सकते हैं, जिनमें सबसे ज्यादा बच्चे 67385 बच्चे भारत में जन्म लेंगे व 46299 बच्चे चीन में जन्म ले सकते हैं।

लिस्ट में चीन का नंबर दूसरा हो सकता है। अनुमान के मुताबिक पहला बच्चा फिजी में पैदा होगा और आखिरी बच्चा अमेरिका में पैदा होगा। आधे से अधिक बच्चों का जन्म आठ देशों में होगा। लिस्ट के मुताबिक भारत में 67385, चीन में 46299, नाइजीरिया में 26039, पाकिस्तान में 16787, इंडोनेशिया में 13020, यूएसए में 10452, कांगो में 10247, इथोपिया में 8493 बच्चे जन्म लेंगे।

यूनिसेफ हर साल नए साल के दिन को इस रोज पैदा हुए बच्चों के लिए शुभ दिन के रूप में मनाता है। हालांकि दुनियाभर के लाखों नवजात शिशुओं के लिए, उनके जन्म का दिन बहुत कम शुभ होता है।

पिछले तीन दशकों के दौरान शिशु मृत्यु दर में आई कमी

2018 में 2.5 मिलियन नवजात बच्चे अपने जन्म के पहले ही महीने में चल बसे। इनमें से अधिकतर बच्चे प्री मैच्योर बर्थ, डिलीवरी के वक्त आई परेशानियों और इन्फेक्शन के कारण काल का ग्रास बने। इन मौतों को रोका जा सकता था अगर सही वक्त पर सही इलाज मिला होता। हालांकि पिछले तीन दशकों में शिशु मृत्यु दर में कमी आई है। अपने पांचवें जन्मदिन तक सर्वाइव करने वाले बच्चों की संख्या पहले की तुलना में दोगुनी हो गई है। वहीं दूसरी ओर जन्म के पहले महीने में जान गंवाने वाले बच्चों की संख्या 1990 में 40 प्रतिशत थी लेकिन 2018 में ये 47 प्रतिशत थी। हेनरीटा ने कहा कि काफी अधिक माताओं और नवजात बच्चों की देखभाल नर्स या दाई नहीं करतीं और नतीजे काफी खतरनाक होते हैं।

Next Post

माल्या की संपत्ति बेचकर बैंक करेंगे कर्ज की वसूली

Thu Jan 2 , 2020
नई दिल्ली पीएमएलए कोर्ट ने दी मंजूरी मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून (पीएमएलए) के विशेष अदालत ने भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और कई अन्य बैंकों को विजय माल्या की जब्त संपत्ति को बेचकर कर्ज वसूली करने की इजाजत दी है। गौरतलब हो कि इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कहा था […]