क्या भारत में लिंचिंग भी अब गरीबी जितनी ही आम हो गयी है?

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। आजकल चोरी के इतने अनोखे किस्से सामने आ रहे हैं कि रिएक्शन समझ नहीं आ रहा दुःखी हो जाएं या गुस्सा दिखाए। आज के दौर में लीचिंग भी देश में गरीबी की तरह आम होती दिख रही है।

ऐसा महसूस होता है की कानून को अपने हाँथ में लेने का एक नया फैशन आ गया है।ऐसी ही एक ख़बर मध्यप्रदेश से आ रही है जो काफ़ी दुःखद है।

मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले में लहसुन की चोरी करने के संदेह में एक व्यक्ति को कपड़े उतारकर लोगों ने ताबड़तोड़ लाठियां बरसाईं। जिस बेरहमी से भीड़ युवक को पीटती नज़र आ रही है देखकर आपके रोंगटे खड़े हो जायेंगे। इसको सोशल मीडिया पर खूब वायरल किया जा रहा।

इस घटना पर पुलिस स्टेशन प्रभारी एसएल बौरासी का कहना है, “यह बहुत गंभीर मामला है, हमने जांच शुरू कर दी है और जो अपराधी वीडियो में दिखाई दे रहे हैं उनके खिलाफ़ कार्यवाई की जाएगी।”

ये है पूरा मामला

वीडियो के अनुसार, मंदसौर की एक थोक सब्ज़ी मंडी में लहसुन चोरी करने के आरोप में किसानों ने एक युवक को नंगा कर उसे जमकर पीटा। यहाँ तक उस व्यक्ति को उसी अवस्था में उससे लहसुन की बोरियां उठाने को कहा, जिसका वीडियो बना कर बाद में वायरल भी कर दिया गया।

इस वीडियो को देखने के बाद कानून पर भी सवाल खड़े हो गए हैं। क्योंकि यदि किसी व्यक्ति ने चोरी जैसा अपराध किया है तो उसे पुलिस के हवाले किया जाना चाहिए न की कानून अपनी जेब में रख अपराध को अंजाम देना चाहिए।

इससे पहले बिहार के कैमूर जिले के मोहनिया थाना क्षेत्र में लुटरों ने एक ट्रक चालक को बंधक बनाकर उस पर लदी 102 बोरी प्याज लूट ली थी। पुलिस अधिकारी ने बताया था कि ट्रक चालक देशराज कुशवाहा ने बताया कि वह इलाहाबाद (प्रयागराज) से जहानाबाद के लिए 51 क्विंटल बोरी प्याज ट्रक पर लेकर जा रहा था, तभी रात के समय लगभग 10 बजे करीब आधा दर्जन हथियारबंद अपराधियों ने मोहनिया के मुठानी डायवर्सन के पास उसे बंधक बना लिया और अपने वाहन पर बैठाकर ले गए और उनका समान लूट लिया।

Next Post

बड़ी ख़बरों के शोर तले दबी आईआईटी गुवाहाटी में जारी इस भूख हड़ताल के बारे में जान लीजिये

Tue Jan 7 , 2020
विभव देव शुक्ला देश में फिलहाल कितना कुछ हो रहा है, कहीं सरकार का विरोध तो कहीं आम लोगों का गुस्सा। हमारे समाज की दीवारें खबरों से भरी पड़ी हैं, अक्सर कुछ न कुछ हमारे सामने होता ही रहता है। लेकिन बड़े शहरों के शोर तले ज़रूरी बातें दब जाती […]