भारत में हर दिन हुई 80 हत्याएं और 91 बलात्कार की घटनाएं

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट कहती है कि भारत में 2018 में औसतन हर रोज में 91 महिला ने बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई। आंकड़ों के अनुसार भारत महिलाओं के लिए अब भी सुरक्षित नहीं हो पाया है।

2012 में नई दिल्ली में चलती बस में पैरामेडिकल की छात्रा से जघन्य बलात्कार और हत्या के मामले से गुस्साए हजारों लोग न्याय की मांग को लेकर सड़कों पर उतर आए थे। ‘निर्भया’ कांड के बाद देश में यौन हिंसा के मामले को लेकर सख्त कानून और फास्ट ट्रैक कोर्ट की मांग की गई थी। उसके बाद देश में महिलाओं के खिलाफ हिंसा को लेकर कानून सख्त किए गए, लेकिन महिलाओं के खिलाफ हिंसा अब भी बेरोकटोक जारी है।

एनसीआरबी के मुताबिक 2018 में महिलाओं ने करीब 33356 बलात्कार के मामलों की रिपोर्ट की। एक साल पहले 2017 में बलात्कार के 32559 मामले दर्ज किए गए थे, जबकि 2016 में यह संख्या 38947 थी। दूसरी ओर एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक देश में दुष्कर्म के दोषियों को सजा देने की दर सिर्फ 27.2 प्रतिशत है। 2017 में दोषियों को सजा देने की दर 32.2 प्रतिशत थी।

एनसीआरबी के आंकड़े बताते हैं कि हत्या, अपहरण और महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों में पिछले साल के मुकाबले बढ़ोतरी हुई है। 2018 के आंकड़ों के मुताबिक देश में हर दिन औसतन करीब 80 लोगों की हत्या कर दी जाती है। इसके साथ ही 289 अपहरण और 91 मामले दुष्कर्म के सामने आते हैं।

अधिकार समूहों की शिकायत

महिला अधिकार समूहों का कहना है कि महिलाओं के खिलाफ हिंसा को कई बार कम गंभीरता से लिया जाता है और पुलिस मामलों की जांच में संवेदनशीलता की कमी दिखाती है। राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम कहती हैं, ‘देश को अब भी पुरुष चला रहे हैं। केवल एक महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के होने से चीजें नहीं बदल जाएंगी।

Next Post

अब 200 बसों को गाय के गोबर से चलाएगा पाकिस्तान

Sat Jan 11 , 2020
पड़ोसी देश पाकिस्तान से लेकर जब भी कोई खबर आती है तो उसमें जरूर कोई न कोई अनोखी बात जरूर होती है। फिर चाहे वह हास्यपद हो या कोई नई तरकीब पर प्रयोग। हालांकि पिछली कुछ महीनों से पाकिस्तान महंगाई की मार झेल रहा है इसके चलते वहां खाने-पीने की […]