चौथी पीढ़ी की पहली महिला जिसने सेना दिवस पर पुरुषाें की परेड का नेतृत्व किया

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। देश भर में बीते बुधवार को 72वां सेना दिवस मनाया गया और इस बार का सेना दिवस कुछ खास है। इस सेना दिवस पर पहली बार एक महिला अधिकारी ने पुरुषों की सभी टुकड़ियों का नेतृत्व किया है।

देश के इतिहास में पहली बार किसी महिला अफसर ने सेना दिवस पर पुरुषाें की परेड का नेतृत्व कर एक नया कीर्तिमान रच दिया है। बुधवार काे कैप्टन तानिया शेरगिल ने यह गाैरव हासिल किया। तानिया शेरगिल सेना के सिग्नल कोर में कैप्टन हैं।

तानिया चौथी पीढ़ी की पहली महिला अधिकारी हैं जिन्हें पुरुषों के परेड के नेतृत्व का मौका मिला है। आर्मी के काॅर्प्स ऑफ सिग्नल्स की कैप्टन तानिया अब 26 जनवरी काे परेड एडजुटेंट हाेंगी यानी सभी परेड की कमान संभालेंगी। पिछले वर्ष कैप्टन भावना कस्तूरी गणतंत्र दिवस पर पुरुषों की परेड का नेतृत्व करने वाली पहली महिला बनी थीं।

इलेक्ट्रॉनिक्स एवं कम्युनिकेशंस में बीटेक करने वाली तानिया शेरगिल मार्च 2017 में चेन्नई के ऑफिसर ट्रेनिंग अकादमी से सेना में शामिल हुई थीं। तानिया शेरगिल का पूरा परिवार सेना में काम कर चुका है। पंजाब के हाेशियारपुर के गढ़दीवाला कस्बे की रहने वाली तानिया परिवार की चाैथी पीढ़ी से हैं, जाे सेना में सेवा दे रही हैं।

उनके पिता सूरत सिंह शेरगिल तोपखाने (अर्टिलरी), दादा हरी सिंह 14वीं सशस्त्र बख्तरबंद (आर्मर्ड) और परदादा गंडा सिंह सिख रेजीमेंट में सैनिक (इन्फेंट्री) रह चुके हैं। पिता बाद में सीआरपीएफ से जुड़े। उन्हें वीरता के लिए राष्ट्रपति के पुलिस पदक से सम्मानित किया जा चुका है।

फील्ड मार्शल केएम करियप्पा के सम्मान में हर साल सेना दिवस मनाया जाता है। सेना दिवस की परेड में इस बार तीनाें सेनाओं के प्रमुखों के साथ पहली बार चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत भी शामिल हुए थे।

करियप्पा भारतीय सेना के पहले कमांडर-इन-चीफ थे जिन्होंने 15 जनवरी 1949 में सर फ्रैंसिस बुचर से प्रभार लिया था। करियप्पा ने 1947 में पश्चिमी सीमा पर भारत-पाक के बीच हुए युद्ध में भारतीय सेना का नेतृत्व किया था।

Next Post

भारतीय क्रिकेट टीम की सबसे बुजुर्ग और सबसे खास चाहने वाली महिला का निधन

Thu Jan 16 , 2020
विभव देव शुक्ला पिछले साल भारतीय क्रिकेट टीम विश्वकप का हिस्सा बनी थी। भारत और बांग्लादेश के बीच मुक़ाबला होने वाला था। मैच के दौरान मैदान के बाहर कुछ ऐसा नज़ारा देखा गया जो हर किसी के लिए अचरज भरा था। भारतीय टीम का मुक़ाबला देखने के लिए भारी संख्या […]