इंदौर को एक साल में बनाया जाएगा देश की पहली साइलेंट सिटी

नगर संवाददाता | इंदौर

शहर को सफाई के बाद अब वायु और ध्वनि प्रदूषण के मामले में भी देश में नंबर वन बनाने के प्रयास किए जाएंगे। इसके तहत एक साल में इंदौर को देश की पहली साइलेंट सिटी बनाया जाएगा। यहां सार्वजनिक कार्यक्रमों में बिना ध्वनि विस्तार यंत्रों पर लगाम लगाई जाएगी।

यह बात गुरुवार को कलेक्टर लोकेश जाटव ने ट्रैफिक कैबिनेट में विषय विशेषज्ञों के साथ हुई चर्चा के बाद कही। उन्होंने कहा कि शहर में वायु और ध्वनि प्रदूषण से मुक्त करना जरूरी है। इसके लिए विभाग अपने स्तर पर कार्य करने के साथ ही जनता से भी सहयोग ले रहे हैं। पिछले दिनों आयोजकों और जनता के सहयोग से अनंत चतुर्दशी चल समारोह और अन्य समारोह डीजे को प्रतिबंधित किया गया है। इसके लिए अच्छे परिणाम भी मिल रहे हैं। इसी तरह आगे भी सभी आयोजनों में बिना अनुमति डीजे को प्रतिबंधित ही रखा जाएगा और इसका सख्ती से पालन भी करवाया जाएगा। शहर के पूर्व घोषित साइलेंट जोन पर प्रतिबंधों का भी पूरी तरह पालन करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि हम तीन बार देश के सबसे साफ शहर बन चुके हैं अब हमने चैलेंज लिया है कि 2021 की शुरूआत में हम इंदौर को साइलेंट सिटी घोषित करेंगे। इसके लिए कार्ययोजना तैयार की गई है।

नए रिक्शा परमिटों पर रोक के लिए शासन को प्रस्ताव

बैठक में बताया गया कि शहर में प्रदूषण में कमी लाने के साथ ही ट्रैफिक में सुधार के लिए कई जरूरी कदम उठाए जाएंगे। इसके तहत ज्यादा से ज्यादा लोगों को लोक परिवहन वाहनों पर शिफ्ट करना, लोक परिवहन सुविधाओं का विस्तार भी किया जाएगा। साथ ही लोक परिवहन वाहनों में पेट्रोल-डीजल वाहनों के बजाए इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ाया जाएगा। बैठक में जाटव ने कहा कि शहर में ऑटो रिक्शा पर्याप्त संख्या में है, इसे देखते हुए अब नए परमिटों पर रोक लगाने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा है। संभवत: अगले महीने से नए परमिटों पर रोक लगा दी जाएगी।

शहर को साइलेंस सिटी बनाने के लिए दो स्थानों से होगी शुरूआत

निगमायुक्त आशीषसिंह ने कहा कि शहर को धूल मुक्त करने के लिए आधुनिक मशीनों का उपयोग किया किया जा रहा है। इनकी संख्या को दुगना किया जाएगा। धूल के अलावा ध्वनि प्रदूषण भी घातक है। इसका प्रभाव हमारे मस्तिष्क पर पड़ता है। शहर को साइलेंट सिटी बनाने के लिए हम पहले दो स्थान का चयन करेंगे और इसे मॉडल के रूप में डेवलेप करेंगे। यह काम जल्द ही शुरु किया जाएगा।

Next Post

पाकिस्तान की आवाम के लिए बदतर हुई सोशल मीडिया की दुनिया

Fri Jan 17 , 2020
विभव देव शुक्ला अक्सर इन्टरनेट तमाम बड़ी परेशानियों की वजह बनता है, कभी-कभी परेशानी ऐसी होती है कि हल ढूँढे नहीं मिलता। लेकिन संवाद की इतनी बड़ी सूरत बन चुके इन्टरनेट के बिना हाल फिलहाल की दुनिया के बारे में सोचना भी मुश्किल है। इन्टरनेट न हो तो कितना कुछ […]