ये फुटबॉल खिलाड़ी लोगों की मदद के लिए खुद पुरानी गाड़ी और पुराना फोन उपयोग करता है

विभव देव शुक्ला

दुनिया का हर बड़ा खिलाड़ी अपने प्रदर्शन की वजह से जाना जाता है। जितना बेहतर खेल, खेल के लिए जितना ज़्यादा जुनून उतने ही ज़्यादा चाहने वाले। लेकिन इस वजह से हट कर भी एक खिलाड़ी तमाम वजहों के चलते जाना जाता है। कभी मिजाज़ के चलते तो कभी ज़मीन पर किए गए अच्छे कामों के चलते। सादियो माने, फुटबॉल की दुनिया का एक ऐसा नाम जिसके हिस्से में परेशानियों की कभी कमी नहीं हुई।

हफ्ते भर की कमाई 1 करोड़ 50 लाख
27 साल के सादियो माने दुनिया के सबसे मशहूर और सबसे ज़्यादा पसंद किए जाने वाले फुटबॉल खिलाड़ियों में से एक हैं। सादियों को पसंद किए जाने की वजह महज़ उनका खेल नहीं ही बल्कि ज़िन्दगी के प्रति उनका नज़रिया भी है। बात को यूं पेश करना बेहतर होगा कि सादियो महज़ एक हफ्ते में लगभग 1 करोड़ 50 लाख रुपए कमाते हैं।
लेकिन सफलता और आमदनी के शिखर पर इस कदर पहुँचने के बावजूद सादियो की निजी ज़िन्दगी बहुत सरल है। इस बात को सादियो से जुड़ी एक घटना से बखूबी समझा जा सकता है, एक बार सादियो को टूटे फोन के साथ देखा गया। यह देखने के बाद किसी ने उनसे टूटे हुए फोन के बारे में जानना चाहा कि आप नया फोन क्यों नहीं ले लेते हैं?

ख़रीद सकता हूँ फ़रारी और निजी विमान
सादियो का जवाब किसी भी आम इंसान के लिए सहज नहीं था। सादियो ने कहा मैं इस तरह के हजारों मोबाइल फोन ख़रीद सकता हूँ। मेरे लिए ऐसी चीज़ें खरीदना कोई बड़ी बात नहीं है। चाहे 10 फ़रारी क्यों न हो, निजी विमान या हीरे की घड़ियाँ, मैं इनमें से कुछ भी ख़रीद सकता हूँ। मेरे लिए इसमें से कुछ भी बड़ी बात नहीं है लेकिन मुझे ऐसी चीज़ों की ज़रूरत ही क्या है?
मैंने लाचारी को बहुत क़रीब से देखा है, महसूस किया है। मैंने गरीबी झेली है इसलिए मुझे ऐसी चीज़ों के होने या नहीं होने से कोई फर्क नहीं पड़ता है। यही वजह कि मैंने विद्यालय बनवाए जिसमें बच्चे पढ़ पाएं। मैंने तो ऐसे हालातों का भी सामना किया है जिसमें न तो मेरे पास जूते थे और न ही अच्छे कपड़े। फिर भी मैंने खेलना नहीं छोड़ा, कभी-कभी तो हमारे पास खाने के लिए भी नहीं होता था फिर भी मैंने हालातो से हार नहीं मानी।

जिससे ज़रूरतमंद की मदद हो पाए
आज मेरे पास लगभग हर वह चीज़ है जिसका एक आम इंसान सपना देखता है। जितना हर इंसान हासिल करना चाहता है और मेरे पास इतना कुछ है तो मुझे लोगों की मदद करनी चाहिए। मेरे हिसाब से बजाय दिखावे के मैं लोगों की मदद करूँ तो वह ज़्यादा बेहतर होगा। अगर मेरे पास इतना कुछ है तो मुझे यह ऐसे लोगों में बांटना चाहिए जिन्हें इन चीज़ों की असल मायनों में ज़रूरत है।
सादियो पश्चिमी अफ्रीका, सेनेगल से आते हैं और अपने लोगों के लिए खूब काम कर रहे हैं। उन्होंने अपने क्षेत्र में तमाम विद्यालय और अस्पताल भी बनवाए हैं, यहाँ तक कि मोबाइल फोन और गाड़ियाँ भी पुरानी ही इस्तेमाल करते हैं। फ़िलहाल लिवरपूल-सेनेगल से फॉरवर्ड में खेलने वाले सादियो का खेल भी शानदार रहा है।

3 मिनट से कम समय में हैट्रिक
इंगलिश प्रीमियर लीग में सादियो ने दो दशक पुराना रिकॉर्ड तोड़ा था। सादियो एस्टन विला के खिलाफ साउथ एम्पटन की तरफ से खेल रहे थे, उस मैच में उन्होंने लगातार 3 गोल किए। गोल की इस हैट्रिक में ताज्जुब वाली बात यह थी सदियो ने तीनों गोल 3 मिनट से भी कम लगभग 176 सेकेंड में किए थे। यानी सादियो ने इस मैच में लगभग 20 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा, उनके पहले यह रिकॉर्ड फ़ौलार के नाम था।

Next Post

केरल टूरिज़्म ने मकर संक्रांति पर 'बीफ उलरतियातु' की फ़ोटो शेयर की तो हुआ बवाल

Fri Jan 17 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। अभी तक देश में पोशाक से धर्म की पहचान होने के बयान पर बवाल था। अब खान-पान पर भी धर्म की राजनीति होनी शुरू हो गयी है। ‘केरल टूरिज़्म’ भी इस राजनीति के घेरे में आ गयी है। केरल टूरिज्म के एक ट्वीट को लेकर फिर विवाद […]