केजरीवाल को घेरने की तैयारी में भाजपा व कांग्रेस से दो बेटियां

नई दिल्ली

राज्य की सबसे हाई प्रोफाइल सीट नई दिल्ली पर दिलचस्प जंग देखने को मिल सकती है। सीएम अरविन्द केजरीवाल को घेरने के लिए कांग्रेस और भाजपा सरप्राइज दे सकती है। कहा जा रहा है कि कांग्रेस इस सीट से दिल्ली की दिवंगत पूर्व सीएम शीला दीक्षित की बेटी को उतार सकती हैं वहीं, भाजपा पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की बेटी बंसुरी को टिकट दे सकती है।

सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस शीला की बेटी लतिका को इस सीट से उतार सकती है। इस सीट से कई अन्य नाम भी सामने आ रहे हैं, जिसमें राजेश लिलोठिया ने अपना नाम खुद सोनिया गांधी के सामने पेश किया है। एक कयास भी है कि अलका लांबा को भी यहां से केजरीवाल के खिलाफ पार्टी उतार सकती है। अगले एक दो दिन में इस सीट की तस्वीर साफ होने की संभावना है। उधर, भाजपा आज दिल्ली चुनाव के लिए प्रत्याशियों पर मंथन को लेकर बैठक करने वाली है। सूत्रों के अनुसार, भगवा दल सीएम केजरीवाल को घेरने की रणनीति के तहत नई दिल्ली सीट से दिवंगत पूर्व विदेश मंत्री सुषमा की बेटी बांसुरी को उतार सकती है। भाजपा हर सीट को लेकर अलग रणनीति बना रही है।

शीला को हराकर की थी एंट्री

बता दें कि केजरीवाल ने 2013 में नई दिल्ली सीट पर शीला को हराकर ही राजनीति में धमाकेदार अंदाज में अपनी पारी शुरू की थी। 2015 के चुनाव में केजरीवाल ने कांग्रेस की कद्दावर नेता किरण वालिया को बड़े अंतर से हराया था। अब कांग्रेस इस बेहद अहम सीट पर पूरी रणनीतिक तैयारी के साथ केजरीवाल को घेरना चाहती है।

केजरीवाल को यह भी देंगे चुनौती

नई दिल्ली से केजरीवाल को श्री वेंकटेश्वर महा स्वामीजी भी चुनौती देंगे। लोग उन्हें दीपक के भी नाम से जानते हैं। उन्होंने फैसला किया है कि इस बार दिल्ली के सीएम को चुनावी मैदान में टक्कर देंगे। दीपक ने अब तक कुल 16 चुनाव लड़े हैं जिनमें कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश शामिल हैं। दिलचस्प बात है कि स्वामीजी ने कुल तीन नॉमिनेशन फॉर्म भरे हैं जिनमें अलग-अलग पार्टियों भाजपा, एनसीपी और हिंदुस्तान जनता पार्टी से नामांकन भरा गया है।

Next Post

जो लोग हाथ में तिरंगा लेकर विरोध कर रहे थे वही आज राजनीतिक रोटियाँ सेंक रहे हैं-निर्भया की माँ

Fri Jan 17 , 2020
विभव देव शुक्ला निर्भया दुष्कर्म मामले पर बयानबाजी और अटकलों का दौर पिछले कुछ दिनों से काफी बढ़ गया है। जैसे-जैसे मुख्य आरोपियों की फांसी की तारीख़ नज़दीक आ रही है वैसे-वैसे मुद्दा राजनीति की तरफ मुड़ रहा है। इस तरह के माहौल का सबसे बुरा असर पड़ रहा है […]