नितिन गडकरी मान रहे हैं कि सरकारों में मानसिकता और सकारात्मक रवैये की कमी होती है

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को एक कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए महाराष्ट्र की सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि योजनाओं के लिए पैसे की कमी नहीं है लेकिन फैसले लेने में जो हिम्मत चाहिए, वो सरकार में नहीं है।

केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग तथा सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्योग मंत्री नितिन गडकरी बताते हैं कि कैसे वह अपने विभागों में योजनाओं के लिए पैसा जारी करने से नहीं हिचकते। गडकरी नागपुर में विश्वेश्वरैया राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान में एक समारोह को संबोधित कर रहे थे।

इस दौरान उन्होंने अपने लक्ष्यों की ओर इशारा करते हुए कहा, “बीते पांच सालों में 17 लाख करोड़ रुपये का काम आंवंटित कर चुका हूं और इस साल पांच लाख करोड़ रुपये तक पहुंचना चाहता हूं, इंफ्रास्ट्रक्चर में काम करने के लिए। मैं आपको सच बताना चाहता हूं कि पैसों की कोई कमी नहीं है। जो कुछ कमी है, वो सरकार में काम करने वाली मानसिकता और नकारात्मक रवैये में है। निर्णय करने में जो हिम्मत चाहिए, सरकार में वो नहीं है।”

केंद्रीय मंत्री ने इस संबंध में नौकरशाही को भी निशाने पर लेते हुए कहा, “परसों मैं एक आईएएस फ़ोरम में था तो वो (आईएएस अधिकारी) कह रहे थे कि हम ये शुरू करेंगे, वो शुरू करेंगे, मैंने उन्हें कहा कि आप क्यों शुरू करेंगे? आपमें शुरू करने की ताक़त होती तो आप आईएएस ऑफ़िसर बनकर नौकरी क्यों करते, आप जाकर कोई बड़ा उद्योग करते। जो आप कर सकते हैं, आप उसकी मदद करो, इस लफड़े में मत पड़ो।”

इसके अलावा नितिन गडकरी ने कहा कि 2024 तक देश को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने का लक्ष्य मुश्किल है, लेकिन यह नामुमकिन नहीं है। उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि घरेलू उत्पादन बढ़ाकर और आयात पर निर्भरता में कमी लाकर इस लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2024 तक देश को पांच हजार अरब डॉलर की इकोनॉमी बनाने के सपने के बारे में कई मौकों पर बात कर चुके हैं। केंद्रीय मंत्री भी कई मंचों पर इस बात को दोहरा चुके हैं।

Next Post

पापा को जिताने के लिए अरविंद केजरीवाल की बेटी हर्षिता कर रही हैं खूब मेहनत

Mon Jan 20 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। केजरीवाल को दोबारा सीएम पद पर देखने के लिये उनकी बेटी भी अपनी मां के साथ दिन रात कैंपेनिंग कर रही हैं। यह पहली बार नहीं है कि चुनाव प्रचार में सीएम का परिवार उतरा हो। इससे पूर्व वर्ष 2013 व 2015 के विधानसभा चुनाव में भी […]