अमित शाह का विरोध करते हुए अनुराग कश्यप ने खोई भाषाई मर्यादा

विभव देव शुक्ला

नागरिकता संशोधन अधिनियम और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिज़न को लेकर देश के तमाम इलाक़ों में विरोध अभी तक जारी है। आम जनता से लेकर तमाम दिग्गज नेता सीएए और एनआरसी का जम कर विरोध कर रहे हैं। आम जनता और नेताओं के अलावा इस कड़ी में फिल्मी दुनिया से जुड़े लोगों का नाम आता है। विरोध करने वाले फिल्मी दुनिया से जुड़े लोगों में अनुराग कश्यप भी शुरुआती नामों में से एक है।

अमित शाह को कहा जानवर
लेकिन अक्सर विरोध अपने दायरे से आगे बढ़ जाता है, ऐसे में विरोध को निजी करार दे दिया जाता है। अनुराग कश्यप ने अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से अमित शाह के खिलाफ़ ऐसा ट्वीट किया जो फिलहाल सुर्खियों में है। अनुराग अपने ट्वीट में लिखते हैं,
‘हमारा गृहमंत्री कितना डरपोक है, खुद की पुलिस, खुद ही के गुंडे, खुद की सेना और सुरक्षा भी अपनी बढ़ाता है और निहत्थे आंदोलनकारियों पर आक्रमण करवाता है। घटियेपन और नीचता की हद अगर है तो वह @AmitShah। इतिहास थूकेगा इस जानवर पर।

8 फरवरी का वीडियो
अनुराग ने यह ट्वीट अमित शाह की दिल्ली में हुई चुनावी रैली के दौरान सीएए और एनआरसी का विरोध करने पर एक युवक की पिटाई को लेकर किया। इसके बाद अनुराग कश्यप ने ऐसे तमाम लोगों को रीट्वीट किया जिन्होंने इस घटना का वीडियो साझा किया था। गृह मंत्री की चुनावी रैली में हंगामे का जो वीडियो वायरल हो रहा है, वह 8 फरवरी को दिल्ली में हुई जनसभा का बताया जा रहा है।

समर्थकों ने कर दी थी पिटाई
वीडियो में अमित शाह भाषण दे रहे थे तभी भीड़ में मौजूद एक युवक अचानक एनआरसी और सीएए के विरोध में नारे लगाने लगा। जिसके बाद भाजपा समर्थक व्यक्ति की पिटाई शुरू कर देते हैं। तब शाह मंच से ही लोगों को समझाते हुए युवक को छोड़ने का निवेदन करते हैं। साथ ही सुरक्षाकर्मियों को आदेश देते हैं कि जल्दी पहुंचकर युवक को सुरक्षित ले जाएँ। इसके बाद शाह लोगों से ये भी कहते हैं कि पीछे मत देखिए, कुछ भी नहीं हुआ और फिर वह ‘भारत माता की जय’ के नारे लगवाते हैं।

Next Post

कोरोना वायरस से 80 लोगों की मौत, 2500 से ज्यादा संक्रमित

Tue Jan 28 , 2020
बीजिंग एक दर्जन से ज्यादा देशों को कोरोना वायरस ने अपनी चपेट में लिया, चीन के कई शहरों में लॉकडाउन किया चीन में कोरोनो वायरस का कहर तेजी से फैल रहा है, इतना ही नहीं इस वायरस के जद में दुनियाभर के एक दर्जन से ज्यादा देश आ गए हैं। […]