विवादित बयान के बाद चुनाव आयोग ने की भाजपा के दो स्टार प्रचारकों पर कार्यवाई

विभव देव शुक्ला

दिल्ली में विधानसभा चुनाव होने को हैं, हर राजनीतिक दल ने चुनाव में पूरी ताकत झोंक दी है। जनसभा, पोस्टर, झंडे, बैनर और सबसे ज़रूरी बयानबाजी लेकिन बयानबाजी ही अक्सर नेताओं पर भारी पड़ती है। नेता अक्सर ऐसे बयान देते हैं एक तरफ जिनके चलते राजनीति में उनकी एक तस्वीर तैयार होती है। दूसरी तरफ उन्हीं बयानों की अच्छी भली कीमत भी चुकानी पड़ती है। कुछ ऐसी ही कीमत चुकाई है भारतीय जनता पार्टी के दो युवा सांसदों ने।

देश के गद्दारों को गोली मारो _ _ _ _ को
दिल्ली में जारी चुनाव अभियान के दौरान एक जनसभा को संबोधित करते हुए भाजपा सांसद अनुराग ठाकुर ने नारे लगवाए। नारों का मिजाज़ और असर कुछ ऐसा था कि थोड़ी ही देर में अच्छी भली बहस का मुद्दा बन गया। पिछले दो दिन सोशल मीडिया में उस बयान पर खूब बहस छिड़ी रही, बयान को लेकर लोगों ने जम कर प्रतिक्रिया भी दी। अनुराग ठाकुर ने जो नारा लगवाया था वह कुछ ऐसा था, ‘देश के गद्दारों को, गोली मारो _ _ _ _ को’।

हर मस्जिद हटवा दूंगा
लेकिन यह तो महज़ एक नेता का एक बयान/नारा था। इसके ठीक एक दिन बाद ऐसा ही बयान दूसरे भाजपा सांसद परवेश वर्मा की तरफ से आया। नई दिल्ली के विकासपुरी विधानसभा क्षेत्र में एक जनसभा में बोलते हुए भाजपा सांसद ने कहा अगर 11 फरवरी को भाजपा सरकार बनाती है। तो शाहीन बाग पर एक भी आन्दोलनकारी नज़र नहीं आएगा।
परवेश वर्मा का विवादास्पद बयान यहीं खत्म नहीं होता है। इसके बाद उन्होंने कहा अगर 11 फरवरी को हमारी सरकार बनती है तो उसके बाद मुझे महज़ 1 महीने का समय चाहिए। मैं अपने संसदीय क्षेत्र में सरकारी ज़मीन पर बनी हर मस्जिद हटवा दूंगा। वहीं समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए परवेश वर्मा ने कहा शाहीन बाग में लाखों लोग जमा होते हैं।

चुनाव आयोग ने की कार्यवाई
दोनों ही बयानों के जारी होने के पहले तक कम ही लोगों को पता था कि दोनों भाजपा नेता दिल्ली विधानसभा चुनाव के स्टार प्रचारक हैं। लिहाज़ा चुनाव आयोग ने मामले पर सख़्ती दिखाते हुए आदेश जारी कर दिया। चुनाव आयोग ने आदेश में साफ तौर पर लिखा कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा के दो स्टार प्रचारकों अनुराग ठाकुर और परवेश साहिब सिंह को अगले आदेश तक प्रचार करने की अनुमति नहीं होगी। हालांकि सोशल मीडिया पर दोनों ही बयानों की काफी आलोचना हुई थी, लोगों का कहना था कि इन बयानों पर कार्यवाई होनी चाहिए।

Next Post

शबाना आज़मी के लिए मौत की दुआ मांगने वाली सरकारी टीचर अब ख़ुद मुसीबत में हैं

Wed Jan 29 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। ये जो हिन्दू-मुस्लिम को लेकर ज़हर भरा जा रहा है ये ख़बर उसी का उदहारण है। इस नफ़रत के बीच हमारे बेसिक इमोशन भी ख़त्म होते जा रहे हैं लेकिन हमें इसका अंदाज़ा नहीं लग रहा। आप खुद सोचिए अगर कोई दुर्घटना में घायल है तो आपका […]