फेसबुक पर लिखा ‘आज़ादी दे रहा हूँ’, ‘शाहीन बाग खेल खत्म’ और लहरा दिया कट्टा

विभव देव शुक्ला

आज के दिन देश की राजधानी में कुछ ऐसा हुआ जिसके बारे में किसी के लिए भी अनुमान लगा पाना लगभग नामुमकिन था। देश तमाम घटनाओं का चश्मदीद होता है जिनको लंबे समय तक याद रखा जाता है और कुछ याद रखने लायक नहीं होतीं। पिछले काफी समय से देश की राजधानी में सीएए और एनआरसी का विरोध जारी है। आज विरोध के दौरान एक युवक ने कट्टा लहराया और गोली भी चलाई।

कट्टा लहरा कर वंदे मातरम
कट्टा लहराने वाले युवक का नाम गोपाल है और वह दिल्ली स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया में कट्टा लहराते हुए दाखिल हुआ। जामिया परिसर में दाखिल होते हुए उसने दिल्ली पुलिस ज़िन्दाबाद और वंदे मातरम के नारे लगाए। इसके बाद युवक ने ‘लो आज़ादी’ कह कर गोली चला दी, ख़बरों के मुताबिक गोली एक छात्र को लगी। यह घटना उस दौरान हुई जब छात्र जामिया मिलिया इस्लामिया से राजघाट तक मार्च करने वाले थे।

रामभक्त गोपाल
फिलहाल पुलिस ने छात्र को गिरफ्तार कर लिया है और उससे पूछताछ जारी है। लेकिन इन सारी बातों के बीच गोपाल नाम के युवक की फेसबुक प्रोफाइल की जानकारी सामने आई है जहां उसने पहले ही ऐसे संकेत दिए थे कि वह ऐसी किसी घटना को अंजाम देने वाला है। फेसबुक पर युवक का पूरा नाम है ‘रामभक्त गोपाल’ और इस घटना को अंजाम देने के पहले उसने इस बारे में काफी कुछ लिखा था।
युवक ने सबसे पहले लिखा था, “ध्यान दें!! कृपा करके 31st तारीख़ तक मेरी पोस्टों को नज़र अंदाज़ न करें।”

उसके बाद युवक ने चन्दन गुप्ता की ख़बर का स्क्रीन शॉट साझा करते हुए लिखा, “पहला बदला तेरा होगा भाई #चन्दन।”
इसके अलावा युवक ने कुछ और पोस्ट लिखे उसने
“कृपा!! सभी भाई मुझे see first कर ले…”
“आजादी दे रहा हूँ”
“शाहीन बाग खेल खत्म”
“मैं सभी संगठनों से मुक्त हूँ”
“मेरी अंतिम यात्रा पर मुझे भगवा में ले जाये और जय श्री राम के नारे हों”

सरकार ने दिए कार्यवाई के आदेश
फिलहाल दिल्ली पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर लिया है और उससे पूछताछ जारी है। सुरक्षा के लिहाज़ से दिल्ली मेट्रो के कुल 3 स्टेशन बंद कर दिए गए हैं। फिलहाल घटना पर सबसे ज़्यादा बहस सोशल मीडिया पर छिड़ी हुई है, लोग इस घटना की खूब आलोचना भी कर रहे हैं। इसके ठीक पहले युवक ने अपनी फेसबुक प्रोफाइल से उस जगह पर लाइव भी किया था।
घटना पर गृह मंत्री अमित शाह का बयान भी आया है, उन्होंने कहा मैंने जामिया की घटना के बारे में दिल्ली आयुक्त से बात की है। साथ ही आदेश भी दिए हैं कि इस सख्त कार्यवाई हो, केंद्र सरकार ऐसी कोई भी घटना बर्दाश्त नहीं करेगी। आरोपी पर सख्त से सख्त कार्यवाई होगी। घटना का नतीजा कुछ भी हो पर महात्मा गांधी की पुण्यतिथि के दिन ऐसी घटना होना बड़े सवालिया निशान खड़े करता है।

Next Post

पाकिस्तानी जेल में गले में जंजीर डालकर रखते थे : आसिया

Fri Jan 31 , 2020
पेरिस पाकिस्तान की जेल में दयनीय हाल में आठ साल तक पल-पल मौत की सजा का इंतजार करने वाली आसिया बीबी अब कनाडा में अपनी नई जिंदगी को पटरी पर लाने की कोशिश कर रही हैं। ईसाई धर्म की अनुयायी आसिया बीबी को ईशनिंदा के आरोप में पाकिस्तान की एक […]