रामभक्त गोपाल के सम्मान में अखिल भारतीय हिन्दू महासभा मैदान में

विभव देव शुक्ला

बीते दिन देश की राजधानी स्थित जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्र सीएए और एनआरसी का विरोध करते हुए राजघाट की तरफ आगे बढ़ रहे थे। तभी अचानक से दो नारे सुनाई दिए, ‘दिल्ली पुलिस ज़िन्दाबाद और वंदे मातरम।’ इसके पहले की मौजूद लोगों में कोई कुछ समझ पाता नारे लगाने वाले युवक के हाथ में हथियार नज़र आया। हथियार लहराते और नारे लगाते हुए युवक आगे बढ़ा और उसने गोली चला दी।

आज़ादी दे रहा हूँ
गोपाल नाम के युवक ने गोली चलाने के पहले एक और बात कही ‘आज़ादी दे रहा हूँ।’ हैरानी वाली बात यह थी कि पुलिस घटनास्थल पर मौजूद थी ऐसे में बड़ा सवाल घटना के दौरान पुलिस की सक्रियता पर भी खड़ा होता है। सोशल मीडिया पर घटना को लेकर खूब बहस छिड़ी हुई है, फिलहाल युवक को गिरफ्तार किया जा चुका है और उससे पूछताछ भी जारी है। लेकिन हर क्रिया की प्रतिक्रिया होती है, हर वाद का प्रतिवाद होता है।

शौर्य दिवस
नतीजतन हिन्दू महासभा ने गोली चलाने वाले युवक को सम्मानित करने का फैसला लिया है। अखिल भारतीय हिन्दू महासभा उत्तर प्रदेश के प्रदेश उपाध्यक्ष राजेन्द्र पाल सिंह आर्य ने यह ऐलान किया है। उनका कहना है कि जामिया मिलिया इस्लामिया में गोली चलाने वाले युवक को अखिल भारतीय हिन्दू महासभा सम्मानित करेगी। साथ ही संगठन उसके मुकदमे की पैरवी भी करेगा। आम तौर पर हिन्दू महासभा 30 जनवरी को शौर्य दिवस के रूप में मनाता है। महासभा देश के कई हिस्सों में इस दिन आयोजन भी कराता है।

रामभक्त गोपाल
गोपाल नाम के युवक की फेसबुक प्रोफाइल की जानकारी सामने आई है जहां उसने पहले ही ऐसे संकेत दिए थे कि वह ऐसी किसी घटना को अंजाम देने वाला है। फेसबुक पर युवक का पूरा नाम है ‘रामभक्त गोपाल’ और इस घटना को अंजाम देने के पहले उसने इस बारे में काफी कुछ लिखा था।
युवक ने सबसे पहले लिखा था, “ध्यान दें!! कृपा करके 31st तारीख़ तक मेरी पोस्टों को नज़र अंदाज़ न करें।”

आज़ादी दे रहा हूँ
उसके बाद युवक ने चन्दन गुप्ता की ख़बर का स्क्रीन शॉट साझा करते हुए लिखा, “पहला बदला तेरा होगा भाई #चन्दन।”
इसके अलावा युवक ने कुछ और पोस्ट लिखे उसने
“कृपा!! सभी भाई मुझे see first कर ले…”
“आजादी दे रहा हूँ”
“शाहीन बाग खेल खत्म”
“मैं सभी संगठनों से मुक्त हूँ”
“मेरी अंतिम यात्रा पर मुझे भगवा में ले जाये और जय श्री राम के नारे हों”

आरोपी पर कार्यवाई
घटना पर गृह मंत्री अमित शाह का बयान भी आया था, उन्होंने कहा मैंने जामिया की घटना के बारे में दिल्ली आयुक्त से बात की है। साथ ही आदेश भी दिए हैं कि इस सख्त कार्यवाई हो, केंद्र सरकार ऐसी कोई भी घटना बर्दाश्त नहीं करेगी। आरोपी पर सख्त से सख्त कार्यवाई होगी। घटना का नतीजा कुछ भी हो पर महात्मा गांधी की पुण्यतिथि के दिन ऐसी घटना होना बड़े सवालिया निशान खड़े करता है।

Next Post

विलुप्त होने की कगार पर खड़ा असुर समुदाय ने शुरू किया भारत का पहला 'असुर रेडियो अखाड़ा'

Fri Jan 31 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। आदिवासी अक्सर नज़रअंदाज़ की कैटगरी में आते हैं अब ये किस्सा ही देख लीजिए हम सीएए, एनआरसी के हो हल्ला में इतने मशगूल हैं कि हमें पता ही नहीं चला सबसे ज़्यादा विलुप्त जनजाति असुर समुदाय ने भारत का पहला रेडियो शुरू कर दिया है। ऐसे ही […]