टीम इंडिया के बिज़ी शेडूअल को लेकर पूर्व महिला क्रिकेटर ने विराट कोहली को सुनाया

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। अब क्रिकेट खेल के मैदान के बाहर बीसीसीआई बनाम विराट कोहली का ब्लेम गेम शुरू है जिसमें कई पक्ष में हैं तो कुछ विपक्ष में। कोहली अपने टीम के साथ न्यूज़ीलैंड के टूर पर हैं तथा टीम इंडिया के लगातार खेले जाने वाले मैच को लेकर एक बयान दे दिया फिर क्या था मीडिया से लेकर मीम बाज़ार गर्म हो गया है।

भारत और न्यूजीलैंड अभी पांच टी20 मैचों की सीरीज खेल रहे है। इसके बाद दोनो देशों के बीच तीन वनडे मैचों की सीरीज खेली जानी है। वहीं उसके बाद दोनों देशों के बीच दो टेस्ट मुकाबले खेले जाने है।

टी20 सीरीज के पहले हुई प्रेस कांफ्रेंस में विराट कोहली ने बीसीसीआई पर सवाल उठाते हुए कहा था कि टीम इंडिया अब सीधे स्टेडियम में लैंड करेगी और मुकाबला खेलेगी। हालांकि इसके बाद बीसीसीआई ने भी विराट कोहली को सलाह देते हुए कहा था कि अगर विराट कोहली को प्रोग्राम से कोई शिकायत थी तो उन्हें पहले बीसीसीआई को बताना चाहिए था।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त क्रिकेट की सलाहकार समीति की सदस्य डायना एडुल्जी ने अब विराट कोहली द्वारा टीम के बिजी शेड्यूल बाली बात पर निशाना साधा है। इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए एडुल्जी ने कहा कि 30 नवंबर 2017 को नई दिल्ली स्थित के ताज मानसिंह होटल में विराट कोहली, पूर्व कप्तान एमएस धोनी और मुख्य कोच रवि शास्त्री ने साल 2023 तक टीम के फ्यूचर टूर प्रोग्राम को क्रिकेट अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान मंजूरी दी थी।

उन्होंने कहा, “विराट की शिकायत अब निश्चित रूप से अजीब है, मुझे लगता है कि वह इतना क्रिकेट खेल रहे हैं कि वह भूल गए कि उन्होंने इस तरह के कार्यक्रम के लिए ओके दिया है। हमने खिलाड़ियों पर इसे थोपा नहीं था। वे जानते थे कि वे तीन दिन पहले न्यूजीलैंड में उतरेंगे। यह मिनटों में लिखा गया है, खिलाड़ियों के सहमति देने के बाद ही इसे मंजूरी दी गई थी।”

एडुल्जी ने आगे कहा, “FTP को सीओए द्वारा तैयार नहीं किया गया था, लेकिन बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी और क्रिकेट प्रशासन के प्रमुख गौरव सक्सेना ने इसे बैठक में प्रस्तुत किया था।”

उन्होंने कहा आगे कहा कि एफ़टीपी तैयार होने से पहले शेड्यूल का एक चार्ट शीर्ष खिलाड़ियों और प्रबंधन को मंजूरी के लिए दिया गया था। हमने पूछा था कि क्या खिलाड़ी कुछ बदलना चाहते हैं। हमने खिलाड़ियों और कोच के ठीक होने के बाद ही एफटीपी पास किया था।

वहीं इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पूर्व चेयरमैन राजीव शुक्ला ने शुक्रवार को टीम इंडिया कैलेंडर में खराब शेड्यूलिंग के लिए प्रशासकों की समिति (सीओए) की आलोचना की और कहा कि किसी विशेष सीरीज के लिए कार्यक्रम तय करते वक्त खिलाड़ियों के हितों का ध्यान रखा जाना चाहिए।

शुक्ला ने बीसीसीआई को टैग करते हुए शुक्रवार को ट्वीट किया, “मैं विराट कोहली से सहमत हूं। कोहली ने सही कहा है कि शेड्यूल काफी टाइट है और टीम को एक के बाद एक सीरीज और मैच नहीं मिलने चाहिए। खिलाड़ियों को आराम का वक्त मिलना चाहिए। सीओए को किसी भी कार्यक्रम को फाइनल करने से पहले इसका ध्यान रखना चाहिए था।”

Next Post

वुहान से वापस आने वाले कोरोना प्रभावित भारतीय लोगों को बचाने के लिए आगे आई भारतीय सेना

Fri Jan 31 , 2020
विभव देव शुक्ला दुनिया के सामने फिलहाल एक बड़ा खतरा है, जिसके चलते सैकड़ों लोगों की जान जा चुकी है और हज़ारों लोग इसकी जद में आ चुके हैं। हमारे देश में भी उस ख़तरे की चर्चा ज़ोरों पर है, चर्चा से नतीजा भले न निकले पर उससे जागरूकता ज़रूर […]