मधुमक्खी के छत्ते की तरह दिखती है सूर्य की सतह, पहली तस्वीर

नई दिल्ली

दुनिया के सबसे बड़े सौर दूरबीन ने सूर्य की अब तक की सबसे अद्भुत तस्वीरें ली है। सूर्य की असली सतह का खुलासा हो गया है। दूरबीन के द्वारा ली गईं तस्वीरें सूर्य की सतह को “अभूतपूर्व विस्तार” में दिखाती हैं। खगोलविदों ने सूरज की सतह की सबसे विस्तृत तस्वीरें जारी की हैं। ये बताती है कि सूर्य की सतह उजाड़ और हिंसक है। तस्वीरों के जरिए सूरज को पहली बार सुंदर तरीके से देखा जा सकता है। हवाई द्वीप पर स्थित नेशनल साइंस फाउंडेशन के डानियल के इनौये सोलर टेलीस्कोप ने यह तस्वीरें खींची हैं। इनौये सोलर टेलीस्कोप के निदेशक थॉमस रिम्मेले के मुताबिक, “यह सौर सतह की अब तक की सबसे हाई रिजॉल्यूशन की तस्वीरें हैं। पहले हम सोचते थे कि वह एक उज्ज्वल बिंदु-ढांचे की तरह दिखती है लेकिन अब वह कई छोटी-छोटी संरचनाओं में नजर आ रही है।”

रिपोर्ट कहती है कि सूर्य की सतह का पैटर्न मधुमक्खी के छत्ते के सेल की तरह है। सूर्य की सतह की तस्वीरें लेने वाली दूरबीन दुनिया की सबसे बड़ी दूरबीन मानी जाती है। शोधकर्ताओं ने जो तस्वीरें जारी की हैं उनके मुताबिक सूर्य की सतह सुनहरी-नारंगी दिख रही है। कोशिका जैसी संरचनाएं अमेरिकी राज्य टेक्सास के आकार की हैं। वह गर्म, उत्तेजित या प्लाज्मा के द्रव्यमान का संवहन कर रहे हैं। वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि टेलीस्कोप द्वारा जुटाए डाटा की मदद से सूर्य के बाहरी वायुमंडल (कोरोना) में चुंबकीय क्षेत्रों को मैप करने में मदद मिलेगी।

मानवता की सबसे बड़ी छलांग और उपलब्धी

सूर्य के सबसे बाहरी क्षेत्र में जहां सौर विस्फोट होते हैं। वे पृथ्वी पर उड़ानों और जीपीएस नेविगेशन सिस्टम को बाधित कर सकते हैं। हवाई में खगोल विज्ञान संस्थान के जेफ कून कहते हैं, “यह वास्तव में वैज्ञानिक गैलिलियो के समय के बाद जमीन से सूर्य का अध्ययन करने की मानवता की सबसे बड़ी छलांग है। यह एक बड़ी उपलब्धि है।” गैलिलियो ने ही दावा किया था कि पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा करती है।

टेलीस्कोप हवाई द्वीप माउई पर स्थित

तस्वीर लेने वाला टेलीस्कोप हवाई द्वीप माउई पर स्थित है। अगले कुछ महीनों में यह टेलीस्कोप और अधिक प्रभावशाली हो जाएगा जब उसमें कुछ और उपकरण जोड़ दिए जाएंगे। यह दूरबीन सूरज के चुंबकीय क्षेत्र के विस्तार के अध्ययन में मददगार साबित हो सकता है। कून के मुताबिक, “इन नए उपकरणों से हमें यह उम्मीद है कि सूर्य पृथ्वी पर किस तरह का प्रभाव डालता है।”

Next Post

जमानत पर आए व्यक्ति ने 8 घंटे तक 23 बच्चों की जान को खतरे में डाले रखा

Fri Jan 31 , 2020
विभव देव शुक्ला उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद शहर में एक ऐसी घटना हुई जिसमें 23 बच्चों की जान एक साथ खतरे में आ गई थी। इतने बच्चे लगातार 8 घंटे के लिए एक इंसान की गिरफ्त में फंसे हुए थे लेकिन तमाम कोशिशों के बाद वह बच्चे किसी तरह छुड़ाए […]