सेहत के लिए ‘मीठा जहर’ स्मार्टफोन बना सकता है बहरा और अंधा

नई दिल्ली

एम्स और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च में खुलासा

आजकल अधिकतर लोगों के पास स्मार्टफोन है। स्मार्टफोन की लत लोगों को ऐसी लग गई है कि लोगों को एक पल भी फोन के बिना रहने में घुटन महसूस होने लगी है, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि आपका ही मोबाइल आपके लिए मीठा जहर का काम कर रहा है।

मोबाइल हैंडसेट लोगों के लिए ‘साइलेंट किलर’ का काम कर रहा है। चाइनीज समेत कई नामी ब्रांड के ऐसे मोबाइल हैंडसेट की बाजार में भरमार है जिनसे निकलने वाला रेडिएशन मानक से अधिक है। मोबाइल रेडिएशन से दिमाग का कैंसर, एकाग्रता, आंख की समस्याएं, तनाव में वृद्धि, जन्मजात के लिए जोखिम, न्यूरोडेगेनेरेटिव डिसऑर्डर, दिल का जोखिम, प्रजनन क्षमता और सुनने में परेशानी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। एम्स और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने एक स्टडी में दावा किया गया है कि मोबाइल रेडिएशन के कारण इंसान बहरा हो सकता है और यहां तक कि नपुंसक होने की भी संभावना है।

ऐसे चेक करें अपने मोबाइल का रेडिएशन स्तर | एसएआर यह बताता है कि हमारा शरीर कितनी मात्रा में रेडिएशन को ग्रहण कर सकता है। अपने मोबाइल का रेडिएशन स्तर यानि एसएआर जांचने के लिए *#07# डायल करें। अगर फोन का सार वैल्यू 1.6 वॉट प्रति किग्रा (1.6 W/kg) से अधिक है तो तुरंत अपना फोन बदल लें। आईफोन में सार वैल्यू चेक करने के लिए सेटिंग में जेनरल के बाद लीगल में आरएफ एक्पोजर चेक करें।

Next Post

भारतीय रेलवे तैयार कर रहा देश का पहला चलता-फिरता पुल

Sat Feb 1 , 2020
नई दिल्ली भारतीय रेलवे इन्फ्रास्ट्रक्चर के मामले में लगातार नए कारनामे कर रहा है। अब रेलवे ने समुद्र में एक ऐसे पुल का निर्माण शुरू कर दिया है, जो किसी जहाज के आने पर ऊपर उठ जाएगा। भारत का यह पहला चलता-फिरता पुल वर्टिकल ‘लिफ्ट स्पैन टेक्नोलॉजी’ से बनाया जाएगा। […]