देश की राजधानी में जारी विरोध पर तीसरी दफ़े चली गोली

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। जामिया मिल्लिया इस्लामिया में एक बार फिर गोलीबारी की घटना सामने आई है। प्रदर्शनकारी छात्रों ने आरोप लगाया है कि एक स्कूटी सवार ने प्रदर्शनस्थल पर दो राउंड फायरिंग की है। जिसके बाद क्षेत्र में तनाव का माहौल है। वहीं पुलिस मौके पर पहुच गई है।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक़, पुलिस ने घटना की एफआरआई दर्ज कर ली है। घटना के तुरंत बाद सोशल मीडिया पर #JamiaShooting ट्रेंड करने लगा। फ़ायरिंग में किसी के घायल होने की कोई ख़बर नहीं है। बताया जा रहा है कि गोली हवा में चलाई गई। रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचे छात्रों ने स्कूटी सवार लड़कों को गोली चलाते देखने का दावा किया है।

पिछले कुछ दिनों में इस तरह की फायरिंग की यह तीसरी घटना है। रविवार रात हुई फायरिंग के बाद छात्रों ने बताया कि फायरिंग करने वाले शख्स लाल रंग की स्कूटी पर सवार होकर आए थे। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, वहां मौजूद छात्रों में भगदड़़ मच गई। उन में नाराजगी थी कि पुलिस तैनात होने के बाद भी ऐसी घटनाएं कैसे हो रही हैं।

घटना के बाद वहां बड़ी संख्या में छात्र पहुंचने लगे। नाराज छात्रों ने जामिया नगर पुलिस स्टेशन के बाहर फायरिंग की इस घटना को लेकर प्रदर्शन किया। बाद में शिकायत दर्ज होने पर प्रदर्शनकारी छात्र वहां से रवाना हो गए।

इस मामले में एसीपी जगदीश यादव ने घटना के बारे में कहा, “हमने बयान दर्ज कर लिए हैं। उनके आधार पर आईपीसी की धारा 307 और आर्म्स ऐक्ट सेक्शन 27 के तहत एफआईआर दर्ज कर ली गई है। टीम मौके प रगई है। वह गेट नंबर 5 और 7 से सीसीटीवी फुटेज जुटाएगी। इसके बाद जो तथ्य सामने आएंगे उन्हें भी एफआईआर में शामिल किया जाएगा और कार्रवाई की जाएगी।”

इससे पहले दिल्ली के जामिया इलाके में गुरुवार को एक छात्र ने फायरिंग कर दी थी। जबकि शनिवार को शाहीन बाग इलाके में हवाई फायरिंग की गई थी। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ मार्च कर रहे जामिया मिल्लिया के छात्रों पर 17 वर्षीय किशोर ने पुलिस के सामने गोली चला दी थी।

इसमें जामिया का एक छात्र घायल हो गया था। हमलावर ग्रेटर नोएडा के जेवर का रहने वाला था। वह एक से डेढ़ मिनट तक सड़क पर देसी तमंचा लहराते हुआ घूमता रहा। पुलिस ने हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी थी।

इसके बाद दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में फायरिंग की घटना सामने आई थी। घटना के बाद पुलिस ने गोली चलाने वाले शख्स को हिरासत में ले लिया। ये वही इलाका है जहां पर संशोधित नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर लोग एक महीने से भी ज्यादा समय से धरने पर बैठे हैं।

Next Post

स्मार्टफोन के दौर में इस महाविद्यालय की लड़कियों ने जताई 'मोबाइल फ्री ज़ोन' पर सहमति

Mon Feb 3 , 2020
विभव देव शुक्ला गुज़रे दशक में स्मार्टफोन से बड़ी क्रान्ति शायद ही कोई दूसरी होगी। ऐसी क्रान्ति जो शुरुआत में ज़िन्दगी का एक अहम हिस्सा थी और अब दिनचर्या का एक अहम हिस्सा है। ऐसा हिस्सा जिसकी मौजूदगी से लेकर गैर मौजूदगी तक सारी बातों का बखूबी असर पड़ता है […]