भाजपा से बहस करने के लिए केजरीवाल ने रख दी यह शर्त

विभव देव शुक्ला

दिल्ली विधानसभा चुनाव में हर नया दिन कोई न कोई उतार-चढ़ाव लेकर आ रहा है। कभी बयान तो कभी दावे, कभी आश्वासन तो कभी विवाद। हर राजनीतिक दल ने अपना मोर्चा संभाल रखा है, जैसे-जैसे चुनाव नज़दीक आते जा रहे हैं वैसे-वैसे चुनावों का असर बख़ूबी नज़र आ रहा है। विधानसभा चुनावों को मद्देनज़र रखते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद ने भारतीय जनता पार्टी की चुनावी रणनीति को निशाना बनाया है।

नाम बताने में क्या परेशानी
अरविंद केजरीवाल का कहना है कि वह किसी भी तरह की बहस करने के लिए तैयार हैं अगर भारतीय जनता पार्टी अपने मुख्यमंत्री पद के दावेदार के नाम का ऐलान कर दे। पत्रकारों से बात करते हुए केजरीवाल ने कहा हम भाजपा को मुख्यमंत्री प्रत्याशी का ऐलान करने के लिए कल दोपहर 1 बजे तक का समय दे रहे हैं।
अगर भाजपा समय रहते ऐसा कर देती है तब मैं उससे किसी भी तरह की बहस के लिए तैयार हूँ। साथ ही उन्होंने लोकतन्त्र में बातचीत के महत्व पर ज़ोर दिया और भाजपा पर मुख्यमंत्री का ऐलान न करने के लिए सवालिया निशान भी खड़े किए। आखिर भाजपा को अपना मुख्यमंत्री पद के दावेदार का नाम बताने में क्या परेशानी आ रही है।

दावेदार चुनना जनता का अधिकार
इसके बाद केजरीवाल ने कहा दिल्ली की जनता चाहती है कि भाजपा शहर के लोगों के लिए मुख्यमंत्री पद के दावेदार का ऐलान करे। अगर वह ऐसा करते हैं तो मैं उस व्यक्ति से बहस करने के लिए तैयार हूँ। अमित शाह लोगों से कह रहे हैं कि वह भाजपा के लिए मतदान करें जिससे उन्हें मुख्यमंत्री चुनने में आसानी हो। लोकतन्त्र में इस तरह के अधिकार आम लोगों के पास होते हैं, किसी दूसरे या तीसरे व्यक्ति के पास नहीं।
लोगों का कहना है कि उनका मुख्यमंत्री ऐसा होना चाहिए जो उनके ही क्षेत्र से आता हो। सीधी बातों के बदले अमित शाह दिल्ली के लोगों से कह रहे हैं कि उन्हें एक खाली चेक दे दिया जाए। उस चेक में वह मुख्यमंत्री का नाम लिख देंगे। असल में दिल्ली के लोग चिंतित हैं कि उनका मुख्यमंत्री को अनपढ़ व्यक्ति न बन जाए। अगर किसी ऐसे व्यक्ति को चुन लिया गया जो सरकार न चला पाए तब लोगों का क्या होगा।

Next Post

बुलेट ट्रेन सफेद हाथी है इसे पालना जरूरी नहीं, इस पर हम जनता की राय लेंगे

Wed Feb 5 , 2020
मुंबई सामना के इंटरव्यू में उद्धव ठाकरे बोले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पीएम नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजक्ट बुलेट ट्रेन पर बड़ा बयान देते हुए, शिवसेना के मुखपत्र सामना को दिए इंटरव्यू में कहा कि बुलेट ट्रेन हमारा सपना नहीं है, ये सफेद हाथी है जिसे पालना जरूरी […]