हैवानियत

प्रजातंत्र ब्यूरो | मनावर (धार)

पैसे न लौटाने पड़े इसलिए लगाया बच्चा चोरी का आरोप, पूरे गांव से करवाया हमला, एक की मौत, छह गंभीर

बुधवार को धार जिले की मनावर तहसील के गांव खिरकिया-बोरलाई में दोपहर 12 बजे ग्रामीणों की भीड़ ने बच्चा चोरी की आशंका में लाठियों और पत्थरों से कुचलकर एक व्यक्ति को मार डाला जबकि छह गंभीर रूप से घायल हैं। घायलों का अस्पताल में उपचार चल रहा है। मौके पर पहुंचे एसपी ने बताया जिन लोगों को भीड़ ने पीटा है वे सभी इंदौर-उज्जैन जिले के निवासी हैं। उन्होंने मजदूरों को एडवांस पेमेंट किया था मगर वे बिना काम गांव लौट गए थे और ये लोग उनसे रुपए वापस लेने आए थे। इस बीच विवाद हुआ और जान बचाकर भागते वक्त पास के गांव के लोगों ने बच्चा चोर समझकर हमला बोल दिया।

धार जिले के गांवों के मजदूर इंदौर-उज्जैन जिलों में मजदूरी करते हैं। गांव के मजदूरों ने भी इसीलिए एडवांस 50-50 हजार रुपए ले रखे थे मगर वे काम पर नहीं गए। इंदौर जिले के श्योपुरखेड़ा के विनोद मुकाती ने बताया वे अपने पांच साथियों गणेश पिता मनोज पटेल (40), जगदीश पिता राधेश्याम शर्मा (45), नरेन्द्र पिता सुन्दरलाल शर्मा (45), रवि पिता शंकरलाल पटेल (38), जगदीश पूनमचंद्र शर्मा (40) सभी उज्जैन निवासी के साथ मजदूरों से रुपए वापस लेने के लिए गांव पहुंचे थे। उन्होंने इसकी सूचना तिरला थाने पर भी दी थी। गांव में लोगों ने विवाद किया और वे पथराव से बचकर जब जाने लगे तो कुछ लोग उनके पीछे पड़ गए। पास के गांव में उन्हें 150-200 लोगों की भीड़ ने घेर लिया और वाहनों में तोड़-फोड़ करते हुए उन्हें बच्चा चोर बताकर बुरी तरह पीटने लगे। लाठियों से पीटने और पत्थरों से कुचलने के कारण गणेश की मौत हो गई।

प्रदेश के मालवा-निमाड़ क्षेत्र में एक ऐसा संगठित माफिया काम कर रहा है जो शायद सबसे खतरनाक है। यह एडवांस लेकर ठेकों पर मजदूर उपलब्ध करवाता है और फिर ये मजदूर भाग जाते हैं। जब लोग एडवांस राशि वापस लेने इनके गांव पहुंचते हैं तो उन्हें ‘बच्चा चोर’ बताकर उन पर हमला कर दिया जाता है। धामनोद से लेकर बड़वाह तक ऐसी कई घटनाएं पिछले एक-दो सालों में हुई है। कई घटनाओं की तो रिपोर्ट भी नहीं हुई लेकिन बुधवार को धार जिले के मनावर के पास बोरलाई में हुई ऐसी ही एक घटना में पांच गांवों के लोग शामिल थे। हैवानियत की हद तब हो गई जब वहां के लगभग 500 लोगों ने सड़क पर रास्ता रोक लिया और कार में बैठे छह लोगों को पीट-पीटकर एक की जान ले ली। पांच अभी भी जिंदगी-मौत के बीच संघर्ष कर रहे हैं।

इन मजदूरों ने लिए थे 50-50 हजार

तिरला ब्लॉक के खिरकिया ग्राम के पांच मजदूरों अवतार, जामसिंह, महेंद्र, राजेन्द्र व सुनील को आज से 6-7 माह पूर्व खेत में मजदूरी के लिए एडवांस के तौर पर 50-50 हजार रुपए दिए थे। मजदूरी पर आने के बजाए सभी गुजरात चले गए थे। जब इन लोगों से वापस रुपए मांगे तो इन्होंने गांव बुलाकर विवाद किया।

दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी : कमलनाथ

सीएम कमलनाथ ने घटना को मानवता को शर्मसार करने वाली बताया। उन्होंने कहा प्रशासन को जाँच के निर्देश दिए हैं। दोषियों पर सख़्त कार्रवाई की जाएगी।

7 महीने में तीसरी घटना

19 जुलाई | नीमच में मोर चोरी के आरोप में एक बुजुर्ग की भीड़ ने पीट-पीट कर हत्या कर दी थी।
22 जुलाई | छतरपुर के मोरवा थाना इलाक़े में बच्चा चोरी की अफ़वाह पर भीड़ ने एक महिला की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी।

Next Post

मोदी जिसे फॉलो करते हैं, वो बुरके में शाहीनबाग़ से पकड़ाई!

Thu Feb 6 , 2020
नई दिल्ली गूंजा कपूर को जब महिलाओं ने पकड़ा तो वो बोली मुझे केजरीवाल ने भेजा। बाद में खुद को पत्रकार बताने लगी, महिला के कई बीजेपी नेताओ के साथ फोटो दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में बुधवार दोपहर को प्रदर्शनकारियों ने बुर्का पहनकर पहुंची एक हिंदू महिला को पकड़ा […]