इल्तिजा मुफ्ती और तस्सदुक की सुरक्षा घटेगी

श्रीनगर

महबूबा की बेटी लगातार कर रहीं प्रोटोकाल का उल्लंघन

सुरक्षा कवच और सुरक्षा प्रोटोकाल को बार-बार तोड़ने वाली इल्तिजा मुफ्ती और उनके मामा तस्सदुक मुफ्ती को मिला सुरक्षा कवच हटाया जा सकता है। इस संबंध में प्रशासन गंभीरता से विचार कर रहा है। इन दोनों को स्पेशल सिक्योरिटी ग्रुप यानी एसएसजी का सुरक्षा कवच मिला है।

प्रशासन ने इस संदर्भ में नोटिस भी जारी किया है। एसएसजी सुरक्षा हटने के बाद उन्हें सामान्य श्रेणी का सुरक्षा दी जा सकती है। वह भी आतंकी खतरे के आकलन के बाद ही मिलेगा।

उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि निदेशालय एसएसजी ने पीडीपी अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की बेटी इल्तिजा द्वारा बार-बार सुरक्षा प्रोटोकाल तोड़ने और जानबूझकर एसएसजी जवानों के लिए दुविधापूर्ण स्थिति पैदा करने का संज्ञान लेते हुए 23 जनवरी को गृह विभाग को पत्र लिखा है। इसमें निदेशक एसएसजी ने सुरक्षा कवच हटाने का आग्रह किया है। साथ ही लिखा है कि पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की बेटी इल्तिजा खुद ही इस सुरक्षा कवच को हटवाना चाहती है। वहीं, तस्सदुक मुफ्ती को 10 जनवरी को नोटिस दिया गया है। जिस दिन एसएसजी निदेशालय ने यह पत्र भेजा, उसी दिन इल्तिजा ने आतंकियों संग पकड़े गए डीएसपी दे¨वदर सिंह का हवाला देते हुए अपनी मां के ट्विटर हैंडल पर लिखा था, कश्मीर में अवैध रूप से हिरासत में रखे जाने और प्रताड़ित किए जाने के बाद अब मुङो दिल्ली में एसएसजी द्वारा तंग किया जा रहा है।

नेताओं की हिरासत भयावह

कश्मीर में राजनीतिक नेताओं की बीते छह माह से जारी हिरासत एक भयानक सपने जैसी है। यह टवीट महबूबा की बेटी इल्तिजा मुफ्ती ने ही किया है। अपनी मां के ट्विटर हैंडल पर इल्तिजा ने लिखा, ठीक छह माह पहले अधिकारी मेरी मां को ले गए और मै बेबसी के साथ देखती रही। उसने कहा कि इस समय भारत का परिकल्पना और विचार पर हमला हो रहा है।

Next Post

पत्नी की प्रताड़नाओं सेे हर चार मिनट में एक पुरुष आत्महत्या को मजबूर

Fri Feb 7 , 2020
संजय त्रिपाठी | इंदौर भारतीय संविधान में स्त्री-पुरुष में समानता की बात दर्ज होने एवं तथाकथित रूप से भारतीय समाज को पुरुष प्रधान माने जाने के बावजूद देश में पुरुषों की स्थिति कितनी दयनीय है, इसका अंदाजा इसी से लग जाता है कि यहां पत्नी की प्रताड़नाओं के चलते हर […]