बिना इंटरनेट के भी कंप्यूटर से चोरी हो सकता है सीक्रेट डेटा

नई दिल्ली

स्मार्ट डिवाइसेज के लॉन्च होने के साथ ही डेटा सिक्यॉरिटी के इंतजाम भी पहले से बेहतर किए गए हैं लेकिन हर बार कोई न कोई तरीका डेटा चोरी के लिए ईजाद कर लिया जाता है। रिसर्चर्स ने अब ऐसा ही एक तरीका पता लगाया है, जिसमें बिना इंटरनेट कनेक्टिविटी के टीवी या पीसी स्क्रीन की मदद से डेटा चोरी किया जा सकता है। इस टेक्निक से ‘एयर-गैप्ड’ कंप्यूटर्स के डिस्प्ले और एलसीडी ब्राइटनेस की मदद से डेटा कॉपी किया जा सकता है। खास बात यह है कि यूजर्स का डेटा चुराने के लिए कोई खास सेटअप करने की जरूरत भी नहीं पड़ती।

दरअसल एयर गैप्ड डिस्प्ले आरजीबी कलर वैल्यू की मदद इन्फॉर्मेशन दिखाने के लिए करते हैं, जिसे कोई कैमरा डिवाइस डिटेक्ट कर सकता है। आप किसी के टारगेट सिस्टम में यूएसबी ड्राइव की मदद से मैलवेयर लोड कर सकते हैं और इसके बाद आस-पास मौजूद सिक्योरिटी कैमरा हाईजैक कर जानकारी को ट्रांसमिट किया जा सकता है।

इंटेलिजेंस एजेसियां करेंगी इस्तेमाल

भले ही यह तरीका काम करता हो लेकिन ऐसा करना आसान नहीं है और आपको कंप्यूटर पर लॉग-इन डीटेल्स एंटर करते वक्त डरने की जरूरत नहीं है। भले ही यह तरीका सीधा सा हो, डेटा चोरी करने के लिए अटैकर को विक्टिम के सिस्टम में सेंध लगानी होगी, साथ ही कैमरा कंट्रोल भी इसके लिए जरूरी होगा। रिसर्चर्स का कहना है कि यह तरीका इंटेलिजेंस एजेंसियों की ओर से Stuxnet-style डेटा ट्रैक करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है लेकिन अटैकर किसी बिल्डिंग के बाहर बैठकर यूं ही कंप्यूटर मॉनीटर से डेटा नहीं रीड कर सकता।

ऐसे काम करती है कैमरा प्रोसेसिंग

ऐसे में अपने कंप्यूटर के पीछे कैमरा इंस्टॉल करने में समझदारी नहीं है और एयर-गैप्ड मॉनीटर इस्तेमाल न करने में भी समझदारी है। रिसर्चर्स ने इस तरीके को अलग-अलग ऑब्जेक्ट्स पर टेस्ट किया और पाया कि स्क्रीन पर दिखने वाला विजुअल परसेप्शन, मॉनीटर पर दिखाए जाने वाले पिक्सल्स से काफी अलग होता है। कैमरा बेस्ड प्रोसेसिंग से इन पिक्सल्स को रीड करने दोबारा इमेज क्रिएट की जा सकती है और डेटा आउटपुट अटैकर को मिल सकता है।

Next Post

नकली भक्त (केजरीवाल) ऐसे ही होते हैं - मनोज तिवारी

Sat Feb 8 , 2020
विभव देव शुक्ला दिल्ली में आज मतदान जारी है, हर राजनीतिक दल ने चुनाव में अपनी पूरी ताकत झोंक दी। आज सारे नेताओं से लेकर राजनीतिक दलों की किस्मत ईवीएम में कैद हो जाएगी। चुनाव अभियान के दौरान दिल्ली में उठा-पटक का एक लंबा दौर चला, वादों से लेकर दावों […]