पाक कोर्ट ने किशोरी से जबरन शादी को बताया वैध

कराची

बेतुका फैसला…फिर अल्पसंख्यकों के उत्पीड़न की कहानी सामने आई

अल्पसंख्यकों की उत्पीड़न को नजरअंदाज करने वाले पाकिस्तान में एक बार फिर एक अल्पसंख्यक समुदाय की लड़की की उत्पीड़न की कहानी सामने आई है। हैरतअंगेज बात यह है कि इस बार सरकार या प्रशासन के नुमांइदे ने नहीं बल्कि न्याय के मंदिर में यह सब हुआ है। सिंध उच्च न्यायालय ने 14 साल की ईसाई किशोरी का अपहरण कर विवाह करने को वैध करार दिया है।

अदालत ने कहा कि शरिया कानून के अनुसार यदि लड़की को रजस्वला (मासिक धर्म) शुरू हो चुका है तो नाबालिग लड़की से भी विवाह मान्य है। पीड़िता के पिता यूनिस और मां नगीना मसीह के अनुसार पिछले साल अक्टूबर में उनकी बेटी को जब अगवा किया गया था, तब वह 14 साल की थी और उसे अगवा करने वाले अब्दुल जब्बार ने उससे जबरन इस्लाम धर्म कबूल करवाकर शादी करने के लिए मजबूर किया। लड़की के माता-पिता ने कहा कि इसके बाद वे इस मामले को लेकर कोर्ट पहुंचे, लेकिन दुर्भाग्यवश कोर्ट ने आरोपी के हक में फैसला दिया। उन्होंने कहा कि वे सिंध उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रुख करेंगे। लड़की के वकील तबस्सुम यूसुफ ने शुक्रवार को बताया कि वे उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे।

Next Post

इंदौर में भाजपा के एकमात्र मुस्लिम पार्षद ने विरोध में छोड़ी पार्टी

Sun Feb 9 , 2020
नगर संवाददाता | इंदौर नगर निगम में भाजपा के मुस्लिम चेहरे पार्षद उस्मान पटेल ने परिषद का कार्यकाल समाप्त होने के एक सप्ताह पहले पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। 1980 में अटल बिहारी वाजपेयी के कार्य व्यवहार से प्रेरित होकर भाजपा में शामिल हुए उस्मान पटेल का खजराना क्षेत्र […]