जब इस जानवर ने अपनी जान खतरे में डाल दी एक इंसान को सांपों से भरे तालाब से बचाने के लिए

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। संडे का दिन बड़े आराम का दिन होता है ऐसे में बॉस का फ़ोन आये और अपना पूरा संडे ऑफिस में बिताना पड़े तो दिमाग़ एकदम झन्ना जाता है। और एक ही ख़याल आता है ‘ये दुःख ख़तम काहे नहीं होता’ लेकिन अपने फ़्रस्ट्रेशन वाले मूड से बाहर निकलकर इस ख़बर को पढ़िए आपके होंठो पर मुस्कान लाने से आप खुद को रोक ही नहीं पाएंगे। जो बॉस का दिन भी ख़राब गया हो तो उनके टेबल पर भी सरका दीजियेगा।

ऐसा कई बार हुआ है जब जानवरों ने अपनी जान खतरे में डाल दी इंसानों की जान बचाई है या फिर उनकी मदद की है। इसी तरह का नया मामला सामने आया है, जिसमें एक ओरंगुटन सांपों से भरे पानी में फंसे शख्स की मदद करते हुए नजर आ रही है।

इसकी एक तस्वीर भी काफी वायरल हो रही है और यह तस्वीर आपका भी दिल जीत लेगी। वायरल हो रही इस तस्वीर में एक ओरंगुटान नजर आ रहा है, जो नदी में खड़े एक व्यक्ति की सहायता करने की कोशिश कर रहा है।

यह ओरंगुटन बोर्नियो में एक संरक्षित संरक्षण वन क्षेत्र में रहता है, जो सांप से नदी के बीच में फंसे आदमी की मदद करने के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाते हुए नजर आ रहा है। दिल को छू लेने वाली इस तस्वीर को फोटोग्राफर अनिल प्रभाकर ने क्लिक किया है, जो अपने दोस्तों के साथ इस जंगल में फिटनेस के लिए गए थे।

सीएनएन से बात करते हुए अनिल प्रभाकर ने कहा, ”वन के उस क्षेत्र में सांपों के होने की रिपोर्ट मिली थी, इसलिए वार्डन वहां से सांपों को हटाने के लिए आया था। इसके बाद मैंने देखा कि एक ओरंगुटन उसके बहुत नजदीक आ गया और उसकी मदद करने के लिए हाथ आगे बढ़ाने लगा और इस पल को मैंने अपने कैमरे में कैद कर लिया। यह वाकई काफी भावुक कर देने वाला पल था।”

प्रभाकर ने कहा कि यह पल 3 से 4 मिनट का था। उसने आगे कहा, मैं बहुत खुश हूं कि यह वाकया मेरे सामने हुआ। गौरतलब है कि, बोर्निया ओरंगुटान सर्वाइवल फाउंडेशन इंडोनेशिया की एक एनजीओ है जिसकी स्थापना 1991 में हुई थी। इस फाउंडेशन में 400 लोग काम करते हैं और यहां 650 से अधिक ओरंगुटन का ध्यान रखते हैं।

Next Post

स्कूल में परेशान होकर 9 वर्षीय छात्रा ने बनाया एंटी बुलिंग एप

Mon Feb 10 , 2020
शिलांग मेघालय के शिक्षा मंत्री ने की तारीफ, गूगल प्ले स्टोर पर जल्द मौजूद होगा एप स्कूल में बार-बार धमकियों से परेशान होकर शिलांग की रहने वाली नौ वर्षीय लड़की ने एक मोबाइल एप्लिकेशन बनाया है। इस एप की मदद से ऐसी घटनाओं की जानकारी सीधे अधिकारियों तक पहुंचेगी। कक्षा […]