कांग्रेस की तरफ से चुनाव के नतीजों पर अलका लांबा ने दी पहली प्रतिक्रिया

विभव देव शुक्ला

लगभग महीने भर से देश की राजधानी दिल्ली के भीतर चली विधानसभा चुनाव की उठा-पटक आज लगभग खत्म हो चुकी है। परिणाम सभी के सामने हैं, मतगणना भी अंतिम चरण में पहुँच चुकी है। आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल एक बार फिर दिल्ली के मुख्यमंत्री बनने की ओर आगे बढ़ रहे हैं। आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच चली इस लड़ाई के बीच एक और ऐसा पहलू था जिसे लोगों ने सिरे से नकार दिया। वह पहलू था भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस।

हिन्दू और मुस्लिम वोटों का ध्रुवीकरण
मतगणना लगभग अंतिम चरण में पहुँच चुकी है लेकिन हैरानी वाली बात यह है कि अभी तक कांग्रेस के हाथ एक भी सीट नहीं लगी। इस बीच दिल्ली के चाँदनी चौक विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी अलका लांबा ने ट्वीटर पर एक ट्वीट किया है। ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि हिन्दुओं और मुसलमानों के मतों का पूरी तरह ध्रुवीकरण हुआ है। अपने आधिकारिक ट्वीटर एकाउंट पर ट्वीट करते हुए कांग्रेस प्रत्याशी ने चुनाव के नतीजों पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

अलका लांबा ने लिखा,
मैं परिणाम स्वीकार करती हूँ,
पर हार नहीं
हिन्दू मुस्लिम वोटों का पूरी तरह ध्रुवीकरण किया गया।
कांग्रेस पार्टी को नए चेहरों के साथ एक नई लड़ाई और दिल्ली की जनता के लिए एक लंबे समय के लिए तैयार होना पड़ेगा।
आज लड़ेंगे तो कल जीतेंगे भी।

फिलहाल तीसरे पायदान पर
चुनाव आयोग की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, अलका लांबा फिलहाल तीसरे पायदान पर चल रही हैं। अभी तक उन्हें महज़ 1229 मत मिले हैं। वहीं आम आदमी पार्टी के प्रह्लाद सिंह 23281 मतों से दूसरे पायदान पर और भारतीय जनता पार्टी की सुमन कुमार गुप्ता दूसरे पायदान पर मौजूद हैं। अलका लांबा ने साल 2015 के विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी के टिकट पर चाँदनी चौक विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीता था।
पिछले साल मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मतभेदों के चलते उन्होंने आम आदमी पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया था और कांग्रेस की सदस्यता ले ली थी। अभी तक आए नतीजों के मुताबिक आम आदमी पार्टी 58 सीटों पर आगे चल रही है और भारतीय जनता पार्टी 12 सीटों पर आगे चल रही है।

Next Post

दिल्ली सीएम पद पर अधिक बार पदस्थ रहीं शीला दीक्षित के बाद दूसरा नाम केजरीवाल का

Tue Feb 11 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल दिल्ली विधानसभा के इस चुनाव में अपनी पार्टी को जिताकर मुख्यमंत्री बनने में सफल हुए हैं। वे अब तक सबसे अधिक बार यह पद संभालने के शीला दीक्षित के रिकॉर्ड की बराबरी किया है। शीला दीक्षित लगातार तीन बार मुख्यमंत्री […]