इस पुलिस अफ़सर से आप बात तो कर सकते हैं लेकिन असल में वो है ही नहीं

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। ऐसे समय में जब तकनीक हमारे काम को आसान कर रही है, तो सबसे कठिन काम को पीछे क्यों छोड़ दिया जाए। जैसा कि आप शीर्षक से अनुमान लगा चुके हैं कि हम पुलिसिंग के बारे में बात कर रहे हैं। पुलिसिंग सबसे चुनौतीपूर्ण कार्यों में से एक है जैसा कि हम सभी जानते हैं।

ट्रांसफॉर्मर्स नाम की एक फ़िल्म आई थी उसमें खूब सारे एलियन्स थे, जो पल भर में ट्रक बन जाते थे। न्यूज़ीलैंड में भी इससे थोड़ी मिलती-जुलती खबर सामने आई है। वहां आर्टिफिशल इंटेलिजेंस से एक डिजिटल पुलिस अफसर बना दी गई है। मतलब वो डिजिटल की दुनिया में तो है, पर असल ज़िंदगी में नहीं हैं। इस पुलिस अफसर का नाम है- ऐला। इसका मतलब है- इलेक्ट्रॉनिक लाइफलाइक असिस्टेंट।

माने ऐसी इलेक्ट्रॉनिक सहयोगी, जो जीवंत लगे। इसको यूं समझा जा सकता है कि ऐमजॉन की एलेक्सा या आईफोन की सीरी को आवाज़ के साथ-साथ एक इंसानों जैसा चेहरा भी मिल जाए। आप उसे स्क्रीन पर देख सकेंगे। जो पूछेंगे, आपको उसका जवाब भी मिलेगा।

पुलिस कनेक्ट ट्रायल के साथ, कमिश्नर बुश ने पुलिस के इलेक्ट्रॉनिक लाइफ-लाइक असिस्टेंट, एला का खुलासा किया। वह सोमवार 17 फरवरी से पुलिस के राष्ट्रीय मुख्यालय की लॉबी में तैनात होगी और टीम की सहायता करेगी और आगंतुकों से पुलिस के विषयों जैसे कि 105 गैर-आपातकालीन नंबर और पुलिस वेटिंग के बारे में बात करेगी।

बुश इसके बारे में बताते हैं, “एला एक डिजिटल व्यक्ति है जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) द्वारा संचालित की जाती है और आमने-सामने की बातचीत का अनुकरण करने के लिए वास्तविक समय एनीमेशन का उपयोग है।”

कई मॉल में देखा होगा एक डिजिटल पैनल लगा होता है, जहां टाइप करके आप उस मॉल की किसी दुकान का लोकेशन जान सकते हैं। इसको एक तरह का ‘किओस्क’ कहते हैं। न्यूज़ीलैंड पुलिस ने भी इसी तर्ज पर ऐला को तैयार किया है। वो पुलिस हेडक्वॉर्टर में लगे एक ‘किओस्क’ की डिजिटल स्क्रीन पर नज़र आएगी। इसे लाने का एक बड़ा मकसद पुलिस स्टेशनों पर भीड़ कम करना है। आमतौर पर पुलिस से जो सामान्य जानकारियां मांगते हैं लोग, वो बातें ऐला से भी पूछ सकते हैं।

टेक फर्म इंटेला एआई और सोल मशीनों ने एआई और एला के डिजिटल मानव विकास का नेतृत्व किया। उन्होंने इसे एक-एक सेवा देने के लिए आवाज, टोन और बॉडी लैंग्वेज का उपयोग करने के लिए प्रोग्राम किया है। एला के प्रदर्शन का मूल्यांकन 3 महीने में किया जाएगा।

Next Post

महिला पावरलिफ्टर ने कहा देश के लिए खेली, 30 की हो चुकी हूँ फिर भी सरकारी नौकरी नहीं

Thu Feb 13 , 2020
विभव देव शुक्ला भारतीय खेलों के खिलाड़ी अक्सर सुर्खियों में रहते हैं, कभी अपने प्रदर्शन के चलते और कभी परेशानियों के चलते। खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर खेल पसंद लोग ज़रूर गौर फ़रमाते हैं लेकिन जब एक खिलाड़ी परेशानियों में होता है तब वह गौर नहीं कर पाते हैं। भारतीय पैरा-पावरलिफ्टर […]