‘कश्मीर जितना पाक के लिए अहम, उतना ही तुर्की के लिए’

इस्लामाबाद

तुर्की के राष्ट्रपति रिसेप तैयप एर्दोगान ने पाकिस्तानी संसद में किया कश्मीर का जिक्र, इमरान खान को बिना शर्त समर्थन देने का वादा

पाकिस्तान दौरे पर पहुंचे तुर्की के राष्ट्रपति रिसेप तैयप एर्दोगन ने एक बार फिर भारत के खिलाफ जहर उगला है। उन्होंने कश्मीर मामले में टांग अड़ाते हुए कहा कि यह तुर्की के लिए भी उतनी ही अहमियत रखता है जितनी पाकिस्तान के लिए। उन्होंने पाकिस्तान प्रेम में बहते हुए कश्मीर मुद्दे पर बिना शर्त समर्थन देने का वादा भी किया।

पाकिस्तानी संसद के संयुक्त सत्र को चौथी बार संबोधित करते हुए रिसेप तैयप एर्डोगन ने भारत की अखंडता को लेकर कई ऐसी टिप्पणियां कीं जिसका भविष्य में भारत और तुर्की के संबंधों पर असर पड़ सकता है। उन्होंने कश्मीर और एफएटीएफ के मुद्दे पर पाकिस्तान को समर्थन का वादा किया। पाकिस्तानी वेबसाइट डॉन के अनुसार, एर्डोगन ने कश्मीर की तुलना तुर्की के कन्नाकले से करते हुए भारत पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि तुर्की और पाकिस्तान की दोस्ती निहित स्वार्थ पर नहीं बल्कि प्यार पर आधारित है। उन्होंने आगे कहा कि आज कश्मीर का मुद्दा हमारे लिए उतना ही करीब है जितना कि पाकिस्तान के करीब है। अतीत की तरह हम भविष्य में भी पाकिस्तान का समर्थन करते रहेंगे।

एर्दोगान का पूरा भाषण इस्लाम और मुसलमान के इर्द गिर्द घूमता रहा। मुस्तफा कमाल पाशा ऊर्फ अतातुर्क की धर्मनिरपेक्ष सांस्कृतिक विरासत के उलट एर्दोगान मानो दुनिया भर के मुसलमानों के रहनुमा बनने की कोशिश कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोई जमीन पर खींची हुई सीमा इस्लाम मानने वालों को बांट नहीं सकती।

अमेरिका के पीस प्लान को बताया आक्रमणकारी नीयत

एर्दोगान ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को भी लपेटा। उन्होंने कहा कि मध्य-पूर्व में अमेरिका का पीस प्लान दरअसल आक्रमणकारी नीयत है। उन्होंने कहा कि जहां भी मुसलमान मारे जा रहे हैं वहां मुस्लिम देशों को एकजुट होने की जरूरत है। यही नहीं आतंकवाद के जनक पाकिस्तान को उन्होंने इसका सबसे बड़ा भुक्तभोगी बता दिया। इमरान खान और बाकी सांसदों की तालियों के बीच एर्दोगान ने कहा कि वो फाइनेन्सियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की बैठक में भी बिना शर्त पाकिस्तान का समर्थन करेंगे। एर्दोगान ने पाकिस्तान को अपना दूसरा घर बताकर इमरान को खुश कर दिया। एर्दोगान ने कहा, आपका दर्द मेरा दर्द है। पाकिस्तान तरक्की की तरफ है और ये कुछ दिनों में नहीं हो सकता। इसमें वक्त लगेगा और तुर्की इसमें सहयोग करता रहेगा।

पाक ने फिर जताया डर… भारत कर सकता है कार्रवाई

पाकिस्तान फिर तनाव में है। उसे लगता है कि भारत अगले कुछ दिनों में बड़ी कार्रवाई कर सकता है। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता आएशा फारूकी ने बकायदा प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा इमरान खान सरकार को इस तरह का डर है। हालांकि इसका ठोस कारण वो नहीं बता सकीं।

फारूकी ने कहा कि तुर्की के राष्ट्रपति रिसेप तैयप एर्दोगान पाकिस्तान के दौरे पर हैं, इस दौरान भारत ‘गैर जिम्मेदाराना’ कार्रवाई कर सकता है। पाक प्रवक्ता ने धमकी भी दे डाली। फारूकी ने कहा कि अगर भारत सरकार ने इस तरह की कोई कार्रवाई की तो पाकिस्तान इसका माकूल जवाब देगा। उन्होंने कहा कि तुर्की कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान के स्टैंड का समर्थन करता है, ये भारत को हजम नहीं हो रहा। फारूकी ने भारत से एक और डर का खुलासा किया। ये अमेरिका के साथ एयर डिफेंस सिस्टम पर होने वाली डील से है।

एफएटीएफ में पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट में डालने का करेंगे विरोध

एर्दोगन ने कहा कि वह फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की बैठक में पाकिस्तान को काली सूची में डालने जाने का विरोध करेंगे। एर्दोगन ने कहा, ‘हम फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की बैठक में पाकिस्तान का समर्थन करेंगे, जहां पाकिस्तान के उपर राजनीतिक दबाव डाला जा रहा है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दबाव का मुकाबला करने के लिए वह इस्लामाबाद का साथ देंगे। आतंकी वित्तपोषण और वैश्विक धन शोधन पर नजर रखने वाली संस्था एफटीएफ ने पाकिस्तान को ग्रे-लिस्ट में शामिल किया है। अगर पाकिस्तान एफएटीए की शर्तों को पूरा नहीं कर पाता तो उसे ब्लैकलिस्टिंग का सामना करना पड़ सकता है। एफएटीएफ की अगली प्लेनरी बैठक पेरिस में होने वाली है।

इमरान तुर्की के राष्ट्रपति के शोफर बने, सोशल मीडिया पर किरकिरी

तुर्की के राष्ट्रपति रिसेप तैयप एर्दोगान गुरुवार को इस्लामाबाद पहुंचे। इमरान खुद नूर खान एयरबेस उन्हें रिसीव करने पहुंचे। एर्दोगान के साथ उनकी पत्नी एमीन एर्दोगान भी आई हैं। गार्ड ऑफ ऑनर देने के बाद सब चौंक गए जब इमरान खान ने खुद ही उनकी गाड़ी ड्राइव करने का फैसला किया। काले सूट में इमरान खुद ड्राइविंग सीट पर पहुंचे और बगल वाली सीट पर एर्दोगान नज़र आए। इमरान खान उन्हें लेकर राष्ट्रपति आरिफ अल्वी के घर पहुंचे। ये पहली बार नहीं है कि इमरान खान ने ऐसा किया है। इससे पहले जब सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पाकिस्तान आए तब भी इमरान ने उनकी गाड़ी खुद ही ड्राइव की। हालांकि सोशल मीडिया पर उनकी काफी किरकिरी हुई थी। इसका कारण था सऊदी अरब और भारत के बीच बढ़ते रिश्ते।

Next Post

प्रिंसिपल ने कहा लड़कियां प्यार में पड़ कर भाग जाती हैं रिक्शा ड्राइवर और पान ठेला वालों के साथ

Sat Feb 15 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। प्यार करना बुरा होता है क्या ये कभी कबीर को अपना दोहा ‘ढाई आखर प्रेम’ लिखते वक़्त समझ नहीं आया होगा। जो प्यार इतना ही बुरा है तो ये बात उन लड़कों को भी समझाई जानी चाहिए जो प्यार के चक्कर में तेज़ाब की बोतल तक पहुँच […]