दूसरी बार बेटी होने पर माँ ने एक दिन की नवजात के सीने में घोंप दिया हँसिया

लड़कियों को लेकर समाज की सोच कभी जागरूक नज़र आती है तो कभी कम जागरूक नज़र आती है। जागरूकता कम नज़र आने वाले मामलों में घटनाओं का चेहरा देखने लायक नहीं होता है। ऐसी घटनाओं को सुनने के बाद लगता है कि समाज में लड़कियों के प्रति सोच को सिरे से परखने की ज़रूरत है। ऐसा ही एक घटना हुई मध्य प्रदेश के शाजापुर में जहाँ एक माँ ने दूसरी बेटी पैदा होने पर हंसिया घोंप कर उसकी हत्या कर दी।

एक दिन की नवजात
घटना 13 फरवरी की है, महिला का नाम मंजू है। महिला की एक बेटी पहले से ही थी इसके बाद दूसरी बेटी हुई और बेटी महज़ एक दिन थी। महिला ने नवजात के पेट और सीने में हँसिये से कई वार किए, बच्ची के रोने का शोर सुन कर पड़ोसी मौके पर पहुँचे। लेकिन तब तक नवजात की हालत गंभीर हो चुकी थी, महिला के हाथ में खून लगा हँसिया था और नवजात के शरीर पर कई गहरे घाव थे।

बनाई झूठी कहानी
पड़ोसी नवजात को शाजापुर के ज़िला अस्पताल लेकर गए। वहाँ नवजात का इलाज हुआ लेकिन बहुत सुधार न होने के बाद उसे इंदौर के एमवाय अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन वहाँ भी उसकी हालत में बहुत सुधार नहीं हुआ, आखिरकार नवजात ने दम तोड़ दिया। इतना होने के बाद पुलिस ने मामले में दखल दिया और जाँच के बाद बताया कि डिलिवरी के बाद आरोपी महिला ने ब्लीडिंग की झूठी कहानी बनाई थी।

बेटा नहीं होने से था गुस्सा
बीते दिन 15 फरवरी को पुलिस ने महिला और उसके पति समेत कुल 4 लोगों को इस मामले में गिरफ्तार किया है। पुलिस की पूछताछ में महिला ने बताया कि बेटा नहीं होने पर वह काफी निराश थे और उनकी एक बेटी पहले ही थी। फिर बेटी होने की वजह से उन्हें बहुत गुस्सा आया, गुस्से में उन्होंने अपनी नवजात बेटी को हँसिये से मार दिया। आरोपी महिला का एक बार गर्भपात भी हो चुका था।

Next Post

जामिया के छात्रों पर लाठी चार्ज की 45 सेकेंड की फुटेज पर क्या कहेगी दिल्ली पुलिस

Sun Feb 16 , 2020
विभव देव शुक्ला देश की आबादी के एक बड़े हिस्से ने नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर भरपूर विरोध किया। कई इलाक़ों में विरोध अभी तक जारी है, बच्चों से लेकर बूढ़े तक सभी इस विरोध में शामिल हुए। राजधानी स्थित देश के मशहूर संस्थान जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों ने […]