फ्लाइट के यात्री ध्यान दें, दूसरे की गोद में सिर गिराने से बचें

नई दिल्ली


फ्लाइट में बैठने के सभ्य तरीके को लेकर मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइन

फ्लाइट में सीट को पीछे की तरफ झुकाने को लेकर यात्रियों के बीच कई बार बहस हो जाती है क्योंकि सीट को पीछे झुकाने पर कई बार पीछे की सीट पर बैठे यात्री को परेशानी होती है। अमेरिकी एयरलाइन के एक ऐसे ही वायरल वीडियो के बाद भारतीय उड्डयन मंत्रालय ने फ्लाइट में सीट पर बैठने के सही तरीके के बारे में ट्वीट किया है। इसके लिए एक इमेज को भी ट्वीट किया है।

मंत्रालय ने एक ट्वीट कर यात्रियों से उड़ान में ठीक से बैठने की अपील की है। ट्वीट में कहा गया है कि फ्लाइट में आपकी सीट कोई स्लीपर बर्थ नहीं है। इसलिए दूसरे के बारे में विवेकहीन न हों। ट्वीट में कहा गया है कि विमान में दूसरे लोगों के बारे में सोचें और उन्हें दी गई जगह की अनदेखी न करे। आपके पास सीमित जगह होती है। कोई नहीं चाहता कि आपका सिर उसकी गोद में हो।
विमान में बैठने को लेकर नागरिक विमानन मंत्रालय का ट्वीट ऐसे समय में आया है, जब अमेरिका का एक वीडियो सोशल मीडियो में खूब वायरल हो रहा है। इस वीडियो में एक महिला ने विमान में अपने साथ हुए एक वाकये का जिक्र किया है. महिला ने बताया कि विमान में जब मैंने अपनी सीट को झुकाया तो पीछे बैठे शख्स ने लगातार मेरी सीट पर पंच किया।

एक वीडियो वायरल होने के बाद दुनियाभर में छिड़ी है फ्लाइट में बैठने के तरीकों पर बहस

विमान में बैठने को लेकर दुनियाभर में बहस छिड़ी हुई है , दरअसल, कुछ दिनों पहले एक अमेरिकी ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्‍ट किया था। इस पोस्‍ट में महिला ने विमान में अपने साथ हुए एक वाकये का जिक्र किया है। महिला ने बताया कि विमान में जब मैंने अपनी सीट को झुकाया तो पीछे बैठे शख्स ने लगातार मेरी सीट पर पंच किया। इस पोस्ट में महिला ने एयरलाइन को भी निशाने पर लिया। महिला के इस पोस्‍ट पर अमेरिका में बहस छिड़ी हुई है। इस पूरे मामले पर डेल्टा एयरलाइन के सीईओ को भी प्रतिक्रिया देनी पड़ी। उन्होंने कहा कि पैसेंजर्स को यह हक बनता है कि वह अपनी सीट को जरूरत के हिसाब से झुकाए। साथ में उन्होंने यह भी कहा कि अगर आप अपनी सीट पीछे झुका रहे हैं तो पहले पीछे बैठे को-पैसेंजर्स से मंजूरी जरूर लें।

Next Post

67 के युद्ध में चीन को हराया लेकिन भारत ने देश को नहीं बताया

Sun Feb 23 , 2020
नगर संवाददाता | इंदौर 1967 के युद्ध पर लिखी मेजर प्रबल दासगुप्ता की किताब बढ़ा सकती है कांग्रेस की परेशानी भारत और चीन के बीच 1962 में हुए युद्ध में भारत की पराजय तो सबको पता है, लेकिन 1967 में भारत के हाथों चीन भी बुरी तरह पराजित हुआ, इसके […]