56 साल की उम्र में 130 से 74 किलो किया वजन, बने मॉडल

चंडीगढ़

अगर आप अपनी जिंदगी से तंग आ चुके हैं और दुखी होकर हार मान ली है, तो इस शख्स की कहानी आपके लिए है। जिस शख्स के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं उनका नाम दिनेश मोहन और उम्र 61 साल है। दिनेश ने 56 साल की उम्र में अपना वजन 130 किलो से घटा कर 74 किलो किया, तो उन्हें मॉडलिंग के ऑफर आने लगे। अपनी परेशानियों से आजिज आकर दिनेश ने 44 साल की उम्र में सरकारी नौकरी छोड़ दी थी। लेकिन आज वे एक जाना-पहचाना चेहरा बन चुके हैं।

दिनेश मोहन का जन्म हरियाणा के रोहतक में हुआ था। उनका जीवन एक आम व्यक्ति की तरह ही था। पढ़ाई के बाद एक अच्छी नौकरी और फिर शादी। दिनेश चंडीगढ़ के स्वास्थ्य विभाग में प्रथम श्रेणी ऑफिसर थे, लेकिन इसी दौरान वे डिप्रेशन के शिकार हो गए। सरकारी नौकरी छोड़ दी और गुरुग्राम में रहने लगे। उन्हें बीमारियों ने कुछ इस तरह घेरा कि वे बिस्तर पर आ गए। शरीर का मोटापा अब मुसीबत बनने लगा।

130 किलो तक पहुंच गया था वजन

दिनेश की जिंदगी में साल 2004 में कुछ ऐसा हुआ कि वे जीवन से निराश होने लगे। उनका वजन लगातार बढ़ता हुआ 130 किलो तक पहुंच गया था। वजन बढ़ना इतनी बड़ी समस्या बन गई कि दिनेश ठीक से चल भी नहीं पाते थे। लेकिन दिनेश ने हार नहीं मानी और जिंदगी को नए सिरे से जीने के बारे में सोचना शुरू कर दिया। दिनेश ने जिद पकड़ी कि जिस वजह से हर कोई उनका मजाक उड़ा रहा है, उसे वह हरा कर ही मानेंगे।

तनाव को मात देने में रहे सफल

दिनेश अपना ध्यान नहीं रख पा रहे थे, इसलिए वह अपनी बहन के घर रहने लगे। लेकिन कुछ सालों बाद उनके बहनोई ने ऐसा कुछ कहा, जिससे प्रेरित होकर दिनेश ने अपने तनाव को मात देने की ठान ली। 130 किलो वजन वाले दिनेश ने सबसे पहले अपने मोटापे को कम किया और धीरे-धीरे अपनी ट्रांसफॉर्मेशन से सुर्खियां बटोरने लगे। फिर एक दिन सब चीजों को मात देकर वजन घटाया और फिर मॉडलिंग के ऑफर आने लगे।

उनकी फिटनेस और एनर्जी युवाओं को मात देती है।

पंजाब के रहने वाले मॉडल और एक्टर दिनेश मोहन को 61 साल का जवान कहा जाए, तो कुछ गलत नहीं होगा। क्योंकि इस उम्र में भी उनकी फिटनेस और एनर्जी युवाओं को मात देती है। कई नामी फैशन डिजाइनर्स के लिए रैंप-वाक और मॉडलिंग कर चुके दिनेश को देख हर कोई यही सोचता है कि ये शख्स चकाचौंध की दुनिया का बाशिंदा होगा। मगर उनके जीवन की गहराई को नापने पर एक अलग ही तस्वीर उभरकर आती है।

Next Post

मारे गए आतंकियों की गिनती कर गणित सीख रहे फिलिस्तीन के बच्चे

Sun Feb 23 , 2020
लंदन फिजिक्स की किताब में न्यूटन का तीसरा नियम बताने के लिए विधर्मियों (ईसाइयों और हिंदुओं) यानी इस्लाम को न मानने वालों को गुलेल मारने की मिसाल दी गई आतंक प्रभावित देशों में मानवीय सहायता के लिए दी जा रही भारी-भरकम रकम का कितना गलत इस्तेमाल हो रहा है इसका […]