उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात बेकाबू, संघर्ष के दौरान एक हवलदार ने गंवाई जान

विभव देव शुक्ला

दिल्ली के शाहीन बाग में जारी विरोध प्रदर्शन शुरुआत से ही सुर्खियों में बना रहा। प्रदर्शन अभी तक हो रहा है इसलिए प्रदर्शन को लेकर होने वाली बहस भी अभी तक ज़ोरों पर है। कुछ दिनों पहले यह विरोध प्रदर्शन एक कदम और आगे बढ़ गया जब प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली के जाफराबाद में भी प्रदर्शन शुरू कर दिया। जिसका सीधा असर नज़दीकी मेट्रो स्टेशन और सड़क के यातायात पर पड़ रहा है।

पुलिस वाले सामने फायरिंग
कुछ ही पहले दिल्ली के मौजपुर इलाके से खबर आई जिसके मुताबिक वहाँ के हालात बिगड़ चुके हैं। दो गुटों के बीच टकराव हुआ और उसके बाद पत्थरबाजी भी हुई। घटना का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है और वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि एक शक्स कई राउंड हवाई फायर करता है।
ऐसा वह किसी और के सामने नहीं बल्कि एक पुलिसकर्मी के सामने करता है और आस-पास बहुत सारे पत्थर पड़े हुए हैं। खबरों के मुताबिक मौके पर एक हवलदार की मौत भी हो चुकी है। साथ ही एक मंदिर और एक मजार को आगे के हवाले कर दिया गया है। फिलहाल दिल्ली के उत्तर पूर्वी इलाके पर धारा 144 लागू कर दी गई है।

क्या कह रहे हैं अधिकारी
इसके बाद डीसीपी वेद प्रकाश सूर्य ने मीडिया वालों से बात करते हुए घटना की जानकारी दी। उन्होंने कहा जिन दो समूहों के बीच टकराव और संघर्ष हुआ था हमने दोनों से बात कर ली है। अभी हालात सामान्य हैं, हम स्थानीय लोगों से लगातार संपर्क में बने हुए हैं, स्थितियाँ पूरी तरह हमारे काबू में हैं। इसके बाद कोई उपद्रव करता पाया गया तो पुलिस उस पर कार्यवाई ज़रूर करेगी।

केजरीवाल ने की गुज़ारिश
मामले पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा दिल्ली के कुछ इलाकों से जो शांति व्यवस्था बिगड़ने की खबरें आ रही हैं यह अफसोसजनक है। मेरा गृह मंत्री और एलजी से अनुरोध है कि वह मामले में दखल देकर यह सुनिश्चित करें कि शांति व्यवस्था बिगड़ने न पाए। किसी भी उपद्रवी को अधिकार नहीं है कि वह दिल्ली के माहौल के साथ खिलवाड़ करे। लिहाज़ा इस तरह की घटनाओं पर सख्त से सख्त कार्यवाई होनी चाहिए।

Next Post

हमारी थाली से दूध और दाल लगातार कहाँ ग़ायब हो रहे हैं

Mon Feb 24 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। जब थाली से धीरे-धीरे दाल से लेकर दूध की मात्रा घटते हुए गायब होने लगे तो ये चिंता का विषय है। भारतीय दाल और अनाज संघ ने एक रिपोर्ट ज़ारी किया है जिसके अनुसार पिछले कुछ समय में भारत में दालों की खपत घट रही है। इस […]