महिला रैपर ने महिलाओं को ‘शक्तिशाली और सुंदर’ बोला तो निकाल दिया गिरफ्तारी का वारंट

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। सऊदी अरब में एक महिला के लिए एक गाना मुसीबत बन गया है। इस गाने की वजह से उसकी गिरफ़्तारी का वारंट निकल गया है। गाना कोई अश्लील नहीं है बल्कि गाने में महिलाओं की तारीफ़ की गयी है।

सऊदी अरब में एक महिला रैपर अपने संगीत वीडियो के लिए गिरफ्तारी का सामना कर रही है जो पवित्र शहर मक्का की महिलाओं को “शक्तिशाली और सुंदर” मानती है। मध्य पूर्वी देश के अधिकारियों ने रैपर असाइल स्ले को बुलाया साथ ही वीडियो के निर्माण में शामिल अन्य व्यक्तियों को भी गिरफ्तार करने का आदेश दिया गया। मक्का के क्षेत्रीय अधिकारियों ने कहा कि मक्का के गवर्नर ने गिरफ़्तार करने के लिए आदेश जारी किए हैं।

इसके बारे में जानकारी एक ट्वीट के ज़रिये दिया गया है जिसमें लिखा है, “मक्का के राजकुमार खालिद बिन फैसल ने बिंट मक्का रैप गीत के लिए जिम्मेदार लोगों की गिरफ्तारी का आदेश दिया है। क्योंकि इस गाने में मक्का के लोगों के रीति-रिवाजों और परंपराओं का अपमान किया गया है।” जब्कि एक तरफ सऊदी रैपर असायले ने मक्का को सबसे पवित्र शहर और तीर्थयात्रा का एक महत्वपूर्ण स्थल माना है तथा इस पर वो गर्व भी करतीं हैं ऐसा बताया है।

सऊदी मानवाधिकार संगठन ALQST के निदेशक याह्या असिरी ने द इंडिपेंडेंट की रिपोर्ट में बताया कि गिरफ्तारियों में सऊदी शासन के पाखंड को दिखाया गया है। सऊदी मानवाधिकार संगठन सऊदी और लंदन दोनों जगह स्थित है।

इस गिरफ़्तारी को लेकर सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया आना शुरू हो गया है। लोगों ने इस पर खासा नाराज़गी दर्ज़ की है और इसे सरासर गलत बताया गया है। सोशल मीडिया यूज़र्स का कहना है ये सरकार के उस चेहरे को झूठा साबित करता है जिस चेहरे को सुधारने का उन्होंने वादा किया था। वहीं कुछ यूज़र्स ने सरकार का पक्ष लेते हुए इस वीडियो को सेक्सिस्ट बताया है।

इसे एक कैफे में फिल्माया गया है और इसमें बच्चों को बैकअप डांसर के रूप में शामिल किया गया है। जिसके बोल कुछ इस तरह हैं, “हम बाकी लड़कियों का सम्मान करते हैं लेकिन मक्का की लड़कियां शुगर कैंडी की तरह हैं।”

बीते कुछ सालों में सऊदी की महिलाएं अपने हक़ के लिए बोलना शुरू किया है। वहीं सऊदी अरब का कट्टर रुख़ भी महिलाओं के लिए बदला है। महिलाओं को गाड़ी चलाने के अनुमति से लेकर मनोरंजन के साधनों में छूट दी गयी है।

Next Post

रतनलाल का माँ और बच्चों से किया गया होली मनाने का वादा रह गया अधूरा

Tue Feb 25 , 2020
विभव देव शुक्ला देश की राजधानी दिल्ली में अभी तक प्रदर्शन की आड़ में पत्थरबाजी और उपद्रव जारी है। बीते दिन से शुरू हुए विरोध के लगभग हर पहलू में भरपूर हिंसा है, इतनी हिंसा कि पुलिस के लिए पूरी कानून व्यवस्था संभाल पाना तक मुश्किल हो चला है। सोशल […]