मुस्लिम बस्ती के युवकों ने हिन्दू परिवार से कहा ‘निश्चिंत रहिए, आपकी सुरक्षा हमारे लिए अहम है’

विभव देव शुक्ला

राजधानी दिल्ली के तमाम इलाक़ों में पिछले कई दिनों से जम कर हिंसा हुई। उत्तर पूर्वी दिल्ली, जाफराबाद, चाँदबाग, मौजपुर और खजूरी खास यह कुछ इलाके थे जहाँ हालात शुरू से लेकर अंत तक संवेदनशील बने हुए थे। इन जगहों के आम लोगों का बहुत नुकसान हुआ और ऐसा ही एक इलाका है शिव विहार जो दंगों से प्रभावित रहा। इस इलाके में महज़ 2 हिन्दू परिवार रहते हैं लेकिन मुस्लिम समुदाय के लोगों ने इंसानियत की मिसाल पेश करते हुए उन 2 हिन्दू परिवारों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा।

बस्ती में महज़ 2 हिन्दू परिवार
उत्तर पूर्वी दिल्ली के तमाम दंगे प्रभावित क्षेत्रों की तरह शिव विहार में भी हालात संवेदनशील थे। शिव विहार में दो परिवारों को छोड़ कर लगभग सारे परिवार मुस्लिम थे लेकिन दंगे के दौरान मुस्लिमों ने हिन्दू परिवारों की सुरक्षा सुनिश्चित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। शिव विहार में रहने वाले राम सेवक ने समाचार एजेंसी एएनआई से इस बारे में बात भी की।
राम सेवक ने कहा इस इलाके में केवल 2 हिन्दू परिवार रहते हैं। मैं खुद यहाँ पिछले 35 सालों से रह रहा हूँ लेकिन हमें यहाँ आज तक कभी कोई परेशानी नहीं हुईं। जब हालात असामान्य थे तब मेरे मुस्लिम भाइयों ने खुद मेरे पास आकर कहा ‘अंकल जी आप बिना किसी तरह की चिंता किए सो जाइए। आपको हमारे रहते किसी भी तरह की परेशानी नहीं होगी, हमारे लिए आपका सुरक्षित रहना सबसे अहम है।’

शृंखला बना कर मंदिर बचाया
ऐसा ही एक और मामला हुआ दिल्ली के दंगा प्रभावित इलाके चाँदबाग में जहाँ लोगों ने एक दूसरे के लिए धर्म से ऊपर उठ कर सोचा। चाँदबाग में एक दुर्गा फकीरी मंदिर है और यह इलाका ऐसा था जो शुरुआत से ही संवेदनशील था।
इसलिए मंदिर पर भी खतरे के पूरे आसार थे लेकिन ऐसे हालात बनने के पहले ही लोग आगे आए। वहाँ रहने वाले आम लोगों ने दुर्गा फकीरी मंदिर को बचाने के लिए मानव शृंखला बनाई, इस शृंखला में हिन्दू समुदाय के लोग तो थे ही साथ ही साथ मुस्लिम समुदाय के लोग भी थे।

मुस्लिम परिवार को आग से बचाया
ऐसी ही एक और घटना में एक हिन्दू व्यक्ति ने अपने पड़ोस में रहने वाले मुस्लिम व्यक्तियों की जान बचाई। जिनका घर दंगाइयों ने आग के हवाले कर दिया था। दिल्ली में रहने वाले प्रेमकान्त बघेल ने देखा कि उनके पड़ोस में रहने वाले मुस्लिम परिवार के घर को उपद्रवियों ने आग के हवाले कर दिया।
पूरे परिवार की जान खतरे में थी तभी प्रेमकान्त ने खुद की जान दांव पर लगा कर मुस्लिम परिवार को बचाया। इसके बाद मीडिया वालों से बात करते हुए उन्होंने कहा पिछले कई सालों से हिन्दू और मुस्लिम समुदाय शिवविहार इलाके में शांति से एक जुट होकर रह रहा था। लेकिन इन दंगों ने पूरे माहौल को बिगाड़ कर रख दिया है।
मुझे जैसे ही पता चला कि पड़ोस में रहने वाले मुस्लिम परिवार ख़तरे में है, मैं मदद के लिए तुरंत चला आया। परिवार के उम्र दराज सदस्य को आग से बचाते हुए वह खुद भी जल गए थे। पूरा दिन बीतने के बाद जब वह खुद प्राथमिक उपचार के लिए गए तो उन्हें पता चला कि उनका शरीर 70 फीसदी तक जल चुका है।

Next Post

1999 से हो रहा यौन उत्पीड़न अब हुआ बीजेपी के पूर्व एमएलए पर केस दर्ज़

Fri Feb 28 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। महाराष्ट्र के ठाणे की एक पार्षद के कथित बलात्कार एवं उत्पीडऩ के मामले में बीजेपी के पूर्व विधायक नरेंद्र मेहता समेत दो लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने इस पूरे मामले को लेकर शुक्रवार को जानकारी दी। मीरा-भयंदर पुलिस थाने के एक अधिकारी […]