आठ साल की भारतीय बच्ची अब तक लगा चुकी है 51 हजार पेड़

इंफाल

जलवायु परिवर्तन के खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे लोगों में एक 8 साल की इंडियन बच्ची छाई हुई है। इस बच्ची का नाम है लिसिप्रिया कंगुजम। बच्ची ने 8 साल की उम्र में 51,000 से ज्यादा पौधे लगाए हैं। लिसप्रिया ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी। उन्होंने लिखा, ‘मैं 3,040 दिनों की हूं (उम्र 8 साल, 4 महीने, 1 दिन)’, अभी तक मैंने 51,000 से ज्यादा पेड़ लगाए हैं।’ यानी कि अभी तक 16 पेड़ रोज लगाए हैं ।

मणिपुर के इंफाल की रहने वाली लिसप्रिया जलवायु के मुद्दों पर अपनी बात वैश्विक स्तर पर रखती आ रही हैं। यहां तक कि वो कई देशों का दौरा भी कर चुकी हैं। पहली बार वो साल 2018 में मंगोलिया में गई। वहां आपदा पर उन्हें एक सम्मेलन में बोलना था। वहां के लोगों से मिलने के बाद उनकी जिंदगी बदल गई। उन्होंने बताया कि आपदा के कारण लोग अपने परिवारों से जुदा हो गए। परिवार टूट गए। इसके बाद लिसिप्रिया के जलवायु परिवर्तन के प्रति बढ़ते रूझान को देखकर उनके पिता ने उनकी मदद करने की ठानी।

संसद भवन के बाहर भी तख्ती लेकर पहुंची थी बच्ची

उन्होंने ‘द चाइल्ड मूवमेंट’ नामक संगठन बनाया। वह इस संगठन के जरिए वैश्विक नेताओं से जलवायु परिवर्तन के खिलाफ कदम उठाने की अपील करती हैं। यहां तक कि वो संसद भवन के बाहर भी तख्ती लेकर पहुंची थी। उन्होंने देश के पीएम नरेंद्र मोदी से भी जलवायु के मुद्दों पर कानून बनाने को लेकर गुहार लगाई थी। लिसप्रिया ज्यादा समय अपने शहर से बाहर ही रहती हैं। इसके कारण उन्हें स्कूल भी छोड़ना पड़ गया।बीते दिनों स्वीडन की 16 वर्षीय पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग से उनकी तुलना की जा रही थी। जिसके बाद लिसप्रिया ने कहा, ‘मैं मीडिया से कहना चाहती हूं कि मुझे इंडिया की ग्रेटा कहकर मत बुलाएं।’ जलवायु परिवर्तन पर काम कर रही है यह बच्ची एक मिसाल है। जो बताती है कि जिंदगी बेहतर बनाने की ओर एक कदम बढ़ाना होगा। ताकि फ्यूचर सही हो सके।

Next Post

29 सालों से एक ही दामों पर बेच रहा कचौड़ी

Thu Mar 5 , 2020
कोलकाता एक कचौड़ी की कीमत 25 पैसा 25 साल में महंगाई कहां से कहां पहुंच गई जो चीज पहले 10 रुपए में आती थी वह आज 50 रुपए की बल्कि 100 रुपए की हो चुकी है। लेकिन एक शख्स ऐसा है जिसने 29 साल बाद भी कचौड़ी का दाम नहीं […]