‘रामायण के राम’ को आते थे बोल्ड फोटोशूट के ऑफर

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। रामानंद सागर की रामायण ने दर्शकों पर इतना गहरा असर छोड़ा था कि सभी रामायण के किरदार निभाने वाले एक्टर्स को सच में भगवान ही मानने लगे थे। भगवान राम, सीता और लक्ष्मण का किरदार निभाने स्टार्स को लोग सच में पूजने लगे थे। अब उनके किरदारों को सच मानने का खामियाजा उनको अपनी निजी में भुगतना पड़ रहा था।

अरुण गोविल ने राम का किरदार निभाया था। अब हाल ही में ये बात सामने आई है कि सीता का किरदार निभाने वालीं दीपिका चिखलिया और लक्ष्मण का किरदार निभाने वाले सुनील लहरी को एक समय बोल्ड फोटोशूट का ऑफर आया था। कपिल शर्मा के शो के एक वीडियो के मुताबिक अरुण ने बताया कि दीपिका और लक्ष्मण का किरदार निभाने वाले सुनील को बोल्ड फोटोशूट का ऑफर आया था और इसके लिए दोनों को भारी रकम भी दी जा रही थी।

वीडियो के मुताबिक अरुण ने कहा, “जब हम रामायण की शूटिंग कर रहे थे, उस दौरान कई मैग्जीन ने मुझे और बाकी कास्ट को बोल्ड फोटोशूट के कई ऑफर आए थे और इसके लिए हमें अच्छी रकम दी जा रही थी, लेकिन हम सभी ने इसके लिए मना कर दिया था। हम कभी भी पैसों के लिए दर्शकों का विश्वास नहीं तोड़ना चाहते थे।”

वीडियो में आप देख सकते हैं कि कपिल शर्मा अरुण गोविल से उस दौर के अनुभव के बार में बात करते हैं। कपिल शर्मा अरुण गोविल से पूछते हैं “जहां भी आप जाते थे तो लोग आपकी ही आरती करना शुरू कर देते थे तो सर आपके दिमाग में कभी ना कभी तो आता होगा ना कि ‘अपुन इच भगवान है’ कपिल शर्मा की इस बात पर सभी खिलखिला कर हंस देते हैं।

इतना ही नहीं इसके बाद कपिल शर्मा अरुण को बताते हैं, “मेरी ये आपसे दूसरी मुलाकात है। पहली आपको याद नहीं होगी। एयरपोर्ट पर जो बस आपको आपके एयरक्राफ्ट तक लेकर जाती है मैं उस बस में बैठा हुआ था। अचानक वहां अरुण जी आए। तो मेरे मन में इतना प्रभाव आ गया कि ‘प्रभु’ और मैं खड़ा ही हो गया था।”

अरुण गोविल, सुनील लहरी और दीपिका को अपनी पॉप्युलैरिटी का इतना अंदाजा नहीं था। तीनों किस लेवल का स्टारडम पा चुके थे, इसका अहसास उन्हें तब हुआ जब तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने उन्हें सम्मानित करने के लिए बुलाया गया।

अरुण गोविल ने बाद में सुनील लाहिरी के साथ मिलकर ‘राम लक्ष्मण प्रॉडक्शन कंपनी’ खोल ली तो वहीं दीपिका चिखलिया ने हेमंत टोपीवाला से शादी कर ली। हेमंत ऋंगार बिंदी और टिप्स ऐंड टोज़ कॉस्मेटिक कंपनी के मालिक हैं। दीपिका अपने पति की कंपनी में मार्केंटिंग हेड भी हैं। उन्होंने 1991 में वडोदरा से बीजेपी के टिकट पर चुनाव भी लड़ा था।

Next Post

ब्राह्मणों के लिए मंदिर में लगे साइन बोर्ड पर क्यों हो रहा है विवाद

Fri Mar 6 , 2020
विभव देव शुक्ला जाति के इर्द गिर्द होने वाली बहसें हमेशा से संवेदशील रही हैं। ठीक वैसे ही जब जाति से जुड़ी कोई घटना घटती है तो समाज पर उसका असर भी व्यापक होता है। ऐसा ही कुछ हुआ केरल के त्रिशूर ज़िले में जहाँ कुट्टमक्कु महादेवा मंदिर के भीतर […]