मीटू मूवमेंट में एक बड़ी कामयाबी हार्वे विंस्टीन को 23 साल की जेल

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। एक व्यक्ति पर लगभग 90 महिलाओं द्वारा यौन उत्पीड़न का केस दर्ज़ किया जाता है। व्यक्ति एक जाना-पहचाना चेहरा है। यह मामला मी टू आंदोलन के लिए एक मील का पत्थर साबित हुआ था, जिसके बाद पूरी दुनिया भर की महिलाओं और पुरुषों ने इस मूवमेंट में हिस्सा लिया और अपनी तकलीफ बयां की।

हम बात कर रहे हैं हार्वे वेंस्टीन जो एक अमेरिकी फिल्म प्रोड्यूसर हैं। हार्वे वेंस्टीन को न्यूयॉर्क के जज ने बुधवार को रेप और यौन शोषण के मामले में 23 साल की सजा सुनाई है। पिछले साल चले मीटू मूवमेंट में इस तरह की सजा का सुनाया जाना अपने आप में एक मिसाल है। जस्टिन जेम्स बुर्क ने वेंस्टीन की डिफेंस टीम की याचिका को नजरअंदाज करते हुए यह सजा सुनाई है। वेंस्टीन के डिफेंस की तरफ से कहा गया था कि हार्वे को सिर्फ पांच साल की सजा होनी चाहिए।

क्या है मामला

वीनस्टीन को 2006 में प्रोडक्शन असिस्टेंट मरियम हेली के ख़िलाफ़ आपराधिक यौन कृत्य करने का दोषी पाया गया था और 2013 में अभिनेत्री जेसिका मान के बलात्कार करने का आरोप लगा था। हालांकि हार्वे को कुछ ऐसे मामलों से बरी कर दिया गया, जिनसे उसे उम्रकैद हो सकती थी। हार्वे 2013 में न्यूयॉर्क के एक होटल में एक महिला के साथ दुष्कर्म करने का भी दोषी ठहराया गया था।

हार्वे विंस्टीन को 25 फरवरी को न्यूयॉर्क की एक ज्यूरी ने यौन उत्पीड़न मामले में दोषी करार दिया था। हार्वे पर क्रिमिनल सेक्सुअल एक्ट और दुष्कर्म जैसे आरोप लगाए गए थे, जिसमें उसे दोषी पाया गया। कुल पांच महिलाओं और सात पुरुषों की ज्यूरी ने पांच दिनों तक विचार-विमर्श करने के बाद हार्वे को थर्ड डिग्री रेप और फर्स्ट डिग्री आपराधिक यौन गतिविधि के मामले में दोषी पाया गया।

बलात्कार और यौन उत्पीड़न के मामले में दोषी ठहराए जाने के दो हफ्ते बाद बुधवार को न्यूयॉर्क की एक अदालत ने हॉलीवुड प्रोड्यूसर हार्वी वेन्स्टिन को 23 साल की जेल की सजा सुनाई गई। न्यायाधीश जेम्स बर्क ने वेन्स्टिन की वकीलों की टीम की उस दलील को भी ठुकरा दिया जिसमें उन्होंने अपने मुवक्किल को कम से कम पांच साल की सजा सुनाए जाने की अपील की थी।

इससे पहले हार्वे वेंस्टीन ने कोर्ट से कहा था कि असल में हो क्या रहा है, उसे लेकर वह पूरी तरह से कंफ्यूज्ड हैं। 67 साल के वेंस्टीन पर तकरीबन 90 महिलाओं ने यौन शोषण और रेप का आरोप लगाया था। बीते काफी साल से ही हार्वे पर यौन उत्पीड़न और छेड़छाड़ के आरोप लगते आ रहे थे, जिसके बाद 2017 में उनका करियर भी बर्बाद हो गया।

इस घटना के सामने आने के बाद पूरी दुनिया भर की महिलाओं और पुरुषों ने इस मूवमेंट में हिस्सा लिया और अपनी तकलीफ बयां की। भारत में भी कई मामले सामने आए थे। इसमें बॉलीवुड सितारों समेत कई महिलाओं ने आगे आकर अपना दर्द बयां किया था। इसमें सोना मोहापात्रा, परिणीति चोपड़ा, तनुश्री दत्ता, सांध्या मृदुल, कंगना रनौत, मंदाना करीमी, प्रियंका बोस जैसे कई बड़े नाम शामिल हैं।

जिन दो महिलाओं ने उन पर बलात्कार का आरोप लगाया था उन्होंने अदालत में वेनस्टेन के बयान पढ़े। हेली जिन्हें मिमी हेली के रूप में भी जाना जाता है उन्होंने इस घटना को याद करते हुए कहा, “वेनस्टेन ने मुझे सेक्स के लिए मजबूर किया था। उनके इस हरकत ने एक महिला के रूप में न केवल मेरी गरिमा छीन ली, बल्कि मेरे आत्मविश्वास को भी ठेस पहुंचाई। यह घटना मुझे मानसिक और भावनात्मक रूप से डराता है।”

Next Post

केरल, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में कोरोना का प्रभाव सबसे ज़्यादा - स्वास्थ्य मंत्री

Thu Mar 12 , 2020
विभव देव शुक्ला फिलहाल पूरी दुनिया कोरोना वायरस से जूझ रही है। इस बीमारी के चलते दुनिया भर में हजारों मौतें हो चुकी हैं लेकिन अभी तक इसके थमने के कोई आसार नहीं नज़र आ रहे हैं। फिलहाल हमारे देश में भी कोरोना वायरस के कई मरीज़ सामने आए हैं […]