इस युवक ने शिवाजी का पोर्ट्रेट बनाने के लिए खरीदे हज़ारों प्लास्टिक बिट्स

विभव देव शुक्ला

हिन्दू पांचांग के हिसाब से आज शिवाजी की जयंती है लिहाज़ा देश भर में उन्हें याद किया जाएगा। देश के अलग-अलग हिस्सों में लोग उनका अपने-अपने तरीकों से ज़िक्र करेंगे। देश के तमाम राज्यों से हट कर एक राज्य ऐसा होगा जहाँ छत्रपति शिवाजी को लेकर लोगों में उत्साह अलग स्तर का होगा। वह राज्य है महाराष्ट्र! इसी कड़ी में मुंबई के एक एनीमेशन कलाकार ने शिवाजी का मोज़ाइक (तमाम प्लास्टिक के उत्पाद मिला कर) पोट्रेट बनाया है।

10 दिन लगा कर बनाया पोर्ट्रेट
नितिन कांबले एक निजी संस्था में बतौर हाईटेक एनिमेटर काम करते हैं। उन्होंने लगभग 46080 प्लास्टिक बिट्स की मदद से 10 दिन का समय लेकर शिवाजी का पोर्ट्रेट बनाया है। इसमें कुल 6 अलग तरह के रंग नज़र आ रहे हैं। इसके बाद नितिन ने समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए इस बारे में जानकारी दी।
नितिन ने बताया ‘मैंने शिवाजी का पोर्ट्रेट बनाया है, इसे पूरा करने के लिए लगभग 46080 प्लास्टिक बिट्स की ज़रूरत पड़ी। भारत में प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगा है लेकिन उस प्लास्टिक का कुछ नहीं किया जाता है जो पहले से ही बाज़ार में मौजूद है। नितिन का कहना था कि वह बहुत दिन से प्लास्टिक की मदद से कुछ बनाना चाह रहे थे।’

गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में जगह
अंत में नितिन ने कहा कि इस दौरान उनकी नौकरी भी चल रही थी और इस पोर्ट्रेट के लिए उन्हें कई रात जागना भी पड़ा। इस पोर्ट्रेट को तैयार करने में पूरे 10 दिन लग गए। मैंने इस पोर्ट्रेट को तैयार करने का कच्चा माल भुवनेश्वर से खरीदा था और इसे खुद 6 अलग रंगों में रंगा। क्योंकि मुझे इस काम से बेहद लगाव है इसलिए मुझे इसमें मज़ा भी आया।
फिलहाल इस पोर्ट्रेट को गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल कर लिया गया है। मैं आने वाले समय में बाकी स्वतन्त्रता सेनानियों का पोर्ट्रेट भी बनाना चाहता हूँ। क्योंकि मुझे ऐसा लगता है कि हमारी पीढ़ी उनके बारे में ना के बराबर जानती है ऐसे में यह ज़रूरी हो जाता है कि उन लोगों के बारे में बातें हों। ज़्यादा से ज़्यादा युवाओं को स्वतन्त्रता सेनानियों के बारे में मालूम चले।

Next Post

चुनाव को ना पर राजनीति को हाँ कहा रजनीकान्त ने

Thu Mar 12 , 2020
विभव देव शुक्ला दक्षिण भारत की राजनीति में तमिलनाडु एक अहम राज्य माना जाता है। पिछले कुछ सालों से राज्य की राजनीति में काफी उतार-चढ़ाव जारी हैं, जो फिलहाल आम लोगों की नज़र से बाहर है। उतार चढ़ाव की सबसे बड़ी वजहों में से एक हैं देश के जाने माने […]