अफगान सेना पर हमले तेज, 24 घंटे में 95 हमले

काबुल

शांति समझौते के बावजूद हिंसा बढ़ी

युद्धग्रस्त अफगानिस्तान में हिंसा पर विराम लगाने के लिए पिछले महीने अमेरिका-तालिबान के बीच हुए समझौते के बावजूद 24 घंटों में अफगान सेना के खिलाफ 95 हमले किए हैं। यह हमले अफगानिस्तापन के 10 प्रांतों में किए गए। पिछले हफ्ते कार्यवाहक रक्षा मंत्री असदुल्ला खालिद ने चेतावनी दी थी कि तालिबान के हमलों में वृद्धि पर अफगान सेना रक्षात्मपक मोड में नहीं रहेगी। रक्षा मंत्रालय ने संकेत दिया है कि वह इन हमलों पर सैन्य प्रतिक्रिया देने में कोई संकोच नहीं करेगी।

अमेरिका-तालिबान सौदे पर 29 फरवरी को दोहा में हस्ताक्षर किए थे, जिसका उद्देश्य दशकों के अफगान युद्ध को समाप्त करना था। गौरतलब है कि फरवरी में कतर की राजधानी दोहा में अमेरिका और तालिबान के बीच शांति समझौते पर दस्तखत हुए थे।

अफगानिस्तान के आधे से ज्यादा इलाके पर तालिबान का कब्जा

बता दें कि तालिबान ने अभी तक अफगानिस्तान की निर्वाचित सरकार से कोई वार्ता नहीं की है। वह इसे कठपुतली सरकार करार देता है, लेकिन विश्वास बहाली के लिए वार्ता उसी से होनी है। उल्लेखनीय है कि अफगानिस्तान के आधे से ज्यादा इलाके पर तालिबान का कब्जा है।

Next Post

देश के 40% सरकारी स्कूलों में न तो बिजली, न खेल के मैदान

Sun Mar 15 , 2020
नई दिल्ली देश के 40 फीसदी से भी ज्यादा सरकारी स्कूलों में न तो बिजली है और न ही खेलने का मैदान। मानव संसाधन विकास मंत्रालय से संबद्ध संसदीय समिति की रिपोर्ट से यह खुलासा हुआ है। समिति ने स्कूल शिक्षा विभाग के बजट में 27 फीसदी कटौती के लिए […]