मध्य प्रदेश के फ्लोर टेस्ट में आया बड़ा बदलाव

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। मध्यप्रदेश में फ्लोर टेस्ट को लेकर सस्पेंस बना हुआ है। वहीं बीजेपी सरकार को अभी और इंतज़ार करना पड़ेगा क्योंकि उनकी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई टल गई है। ऐसा कांग्रेस सरकार की तरफ से किसी प्रतिनिधि के न पहुंचने की वजह से हुआ। अब मामले पर बुधवार को 10.30 बजे सुनवाई होगी।

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत 10 विधायकों ने सोमवार को याचिका दायर की थी। भाजपा की तरफ से पैरवी करने पहुंचे वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने कहा, “आज कांग्रेस की ओर से कोई वकील कोर्ट रूम में मौजूद नहीं था। इसलिए अदालत ने बुधवार के लिए नोटिस जारी किया है। कांग्रेस के 22 विधायक पार्टी छोड़कर चले गए हैं, उनके पास बहुमत नहीं है, इसलिए उनकी तरफ से कोई सुनवाई में भी नहीं आया है।”

सुनवाई के दौरान जजों ने कहा कि वे दूसरे पक्ष की भी बात सुनना चाहते हैं। अब कोर्ट ने सभी पक्षकारों, मुख्यमंत्री और स्पीकर को भी नोटिस जारी किया है। सबको कल अपना पक्ष रखना है।

भाजपा ने दावा किया है कि कमलनाथ सरकार बहुमत खो चुकी है और कांग्रेस को सरकार चलाने का संवैधानिक अधिकार नहीं है। इस स्थिति में तत्काल विधानसभा फ्लोर टेस्ट कराया जाए।

फ्लोर टेस्ट को लेकर सोमवार को भोपाल में सुबह से रात तक काफी गहमागहमी रही। सुबह विधानसभा की कार्यवाही राज्यपाल के भाषण से हुई, राज्यपाल ने एक मिनट में भाषण दिया और चल दिए। इसके बाद स्पीकर ने 26 मार्च तक कोरोना के नाम पर विधानसभा स्थगित कर दी थी।

Next Post

भारत शानदार देश, उसके विकास का रास्ता पाक से गुजरता है : अख्तर

Tue Mar 17 , 2020
पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर को लगता है कि भारत-पाकिस्तान के रिश्ते बेहतर हो सकते हैं। उन्होंने पाकिस्तान के टीवी चैट शो में कहा कि भारत शानदार देश है। मैंने कभी महसूस नहीं किया कि वह हमसे नफरत करते हैं या किसी तरह की जंग चाहते हैं। मैं […]