कोरोना पर केरल पुलिस और स्वर्ण मंदिर जैसी पहल कम ही देखने के लिए मिलती है

विभव देव शुक्ला

देश से लेकर दुनिया, बीते कुछ समय से एक बात की चर्चा हर जगह जारी है और वह है कोरोना वायरस। चीन से शुरू हुई इस बीमारी का असर इस कदर हुआ कि दुनिया के तमाम विकसित देश तक इसका सामना नहीं कर पा रहे हैं। हमारे देश में सैकड़ों लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं।
3 लोगों की मौत हो चुकी है। सरकार से लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय तक और मंत्रालय से लेकर आम जनता तक सभी इसका सामना करने के लिए डटे हुए हैं। बीमारी का सामना करने की शृंखला में कुछ पहल ऐसी हैं जो खुद में अनोखी हैं और उनका असर बड़े पैमाने पर हो रहा है।

बांटा जा रहा है सैनेटाईज़र
पंजाब ऐसा राज्य है जहाँ हाल ही में कोरोना वायरस से प्रभावित तमाम मामले सामने आए। चूंकि इस वायरस का सामना करने के दिशा निर्देशों में सामूहिक रूप से इकट्ठा होने पर मनाही है। गुरुद्वारा ऐसी जगह है जहाँ हजारों की संख्या में लोग इकट्ठा होते हैं इसलिए वहाँ खास तौर पर ध्यान रखने की ज़रूरत है।
इस बात का ध्यान रखते हुए अमृतसर स्थित हरमिंदर साहिब (स्वर्ण मंदिर) में आने वालों को सैनेटाईज़र दिया जा रहा है। कोरोना वायरस का असर बढ़ने के दौरान इस बात पर सबसे ज़्यादा ज़ोर दिया जा रहा है कि लोगों को समय-समय पर हाथ धुलते रहने की ज़रूरत है। इस बात को मद्देनज़र रखते हुए गुरुद्वारे में आने वाले लोगों को सैनेटाईज़र दिया जा रहा है।

1 मिनट 24 सेकेंड का वीडियो
कोरोना को इसके अलावा केरल पुलिस ने भी एक ऐसी पहल शुरू की है जिसकी चर्चा फिलहाल काफी हो रही है। केरल पुलिस ने The State Police Media Centre Kerala के फेसबुक हैंडल पर एक वीडियो साझा किया है। 1 मिनट 24 सेकेंड के वीडियो में पुलिस वाले मुँह पर मास्क लगा कर नाचते हुए नज़र आ रहे हैं।
नाचने में भी खास तौर पर वह अपने हाथ धुलते हुए नज़र आ रहे हैं। पुलिस वाले पृथ्वीराज की फिल्म अय्यापनुम कोशियम के मलयाली गाने कलक्कथा पर नाचते हुए हाथ धुलने का संदेश दे रहे हैं। फिलहाल उस वीडियो को लगभग 1 लाख लोग देख चुके हैं और हजारों लोगों से उस वीडियो को साझा भी किया है।

दोनों राज्यों में मौजूद हैं मरीज
पंजाब की बात करें तो वहाँ अभी तक कोरोना वायरस से प्रभावित महज़ एक ही मरीज मिला है। लेकिन केरल के हालात पूरी तरह अलग हैं। केरल में कोरोना वायरस से प्रभावित 27 लोग हैं जिसमें से 3 लोगों को इस ख़तरे से बाहर निकाला जा चुका है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों को जागरूक रहने के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं, देश के तमाम राज्यों में धारा 144 जैसे हालात बन चुके हैं।

Next Post

कैसे कपिल मिश्रा ने दिल्ली दंगों में प्रभावित लोगों के लिए महज़ 3 दिन में जुटाए 1 करोड़?

Wed Mar 18 , 2020
दिल्ली में हुई हिंसा पूरे देश ने देखी, आख़िर कैसे कई दिनों तक देश की राजधानी का माहौल खराब था। दिल्ली दंगों के दौरान सबसे ज़्यादा मुश्किल आम लोगों ने झेली, जिनका न तो मामले से कोई लेना-देना था और न ही वह किसी बात के लिए ज़िम्मेदार थे। इस […]