स्वास्थ्य मंत्री का दिया सुझाव कुछ देर में बन गया विवादित बयान

विभव देव शुक्ला

हमारे देश में कोरोना वायरस से प्रभावित मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। लेकिन सिक्के के दूसरे पहलू की तरफ सरकार और आम जनता इस कोरोना वायरस का डट कर सामना भी कर रहे हैं। लेकिन कोशिश और परेशानियों के दौर में कुछ बातें ऐसी होती हैं जो यूं ही सुर्खियों की वजह बन जाती हैं। कोरोना वायरस पर एक ऐसा ही बयान दिया है केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री (राज्य) अश्विनी चौबे ने जो फिलहाल काफी चर्चा में है।

क्या था पूरा बयान
संसद से निकलते हुए देश भर में फैले कोरोना वायरस पर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए अश्विनी चौबे ने बयान दिया। उन्होंने कहा सुबह 11 बजे से लेकर दिन में 2 बजे तक जो सूरज की किरण रहती है हमें दस से पंद्रह मिनट उस धूप में ज़रूर बैठना चाहिए।
उससे काफी लाभ मिलता है, विटामिन डी मिलता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। साथ ही साथ कई तरह के वायरस भी खत्म होते हैं। इसलिए हमें धूप का सेवन भी करना चाहिए, उससे हमारे शरीर को काफी फायदा होगा।

बयान पर चर्चा तेज़
देश में जो चल रहा है उस लिहाज़ से बयान का चर्चा में होना बेहद लाज़मी था। भले बयान का संबंध देश में फैली महामारी से हो या नहीं लेकिन परेशानियों के दौर में अटकलों पर कैसे रोक लग सकती है। नतीजतन कुछ ही देर में हर जगह बयान पर चर्चा होने लगी, ख़बरों से लेकर सोशल मीडिया तक, हर जगह बयान पर खूब प्रतिक्रियाएँ आ रही हैं।

बयान पर स्पष्टीकरण
चर्चा बढ़ने के बाद बयान का दूसरा पहलू सामने आया जिसमें मंत्री जी ने खुद स्पष्टीकरण दिया। मंत्री जी ने कहा मेरे बयान को मीडिया ने तोड़ मरोड़ कर पेश किया है। मेरे बयान का मतलब महज़ इतना था कि धूप में 10-15 मिनट बैठने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, विटामिन डी मिलता है और कई वायरस-जर्म्स मरते हैं।

Next Post

सर्वोच्च न्यायालय ने लगाई मध्य प्रदेश की सियासी खींचतान पर रोक, कल होगा फैसला

Thu Mar 19 , 2020
मध्य प्रदेश में पिछले कई दिनों से जारी सियासी उठा पटक अब खत्म हो चुकी है। विधानसभा में फ्लोर टेस्ट कराने को लेकर सर्वोच्च न्यायालय ने आदेश दिया है कि फ्लोर टेस्ट कल (शुक्रवार) शाम 5 बजे तक कराया जाए। न्यायालय का कहना है कि बहुमत का फैसला विधायकों के […]