भारतीय छात्रों से हॉस्टल छोड़ने को कहा, देश लौटना भी मुश्किल

वाशिंगटन

अमेरिका में विश्वविद्यालयों और शैक्षणिक संस्थानों के बंद होने से भारतीय छात्र दोहरी मुसीबत में फंस गए हैं। एक तरफ तो उन्हें छात्रावास खाली करने को कहा गया है और दूसरी तरफ भारत और अमेरिका में यात्रा पाबंदियां लगी होने से वे कहीं आने-जाने के नहीं रहे हैं। ऐसे में भारतीय दूतावास ने अमेरिकी सरकार से भारत के छात्रों की परेशानियां दूर करने का आग्रह किया है। अमेरिका ने शैक्षिक संस्थान बंद करने का फैसला कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के मद्देनजर लिया है।

जबकि अमेरिका में दो लाख से भी ज्यादा भारतीय छात्र विभिन्न अकादमिक संस्थानों में विज्ञान, चिकित्सा और तकनीकी क्षेत्रों में पढ़ाई कर रहे हैं। 300 से ज्यादा शीर्ष अमेरिकी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में ऑनलाइन कक्षाएं शुरू करते हुए छात्रों से छात्रावास छोड़ने को कहा है। लेकिन दोनों देशों में यात्रा प्रतिबंध लगे होने और सिर्फ कक्षाओं के लिए ही अमेरिका में रहने की अनुमति देने वाली शर्तों के कारण भारतीय छात्र मुश्किल में फंस गए हैं। अमेरिकी शहरों में पिछले कई दिनों से हेल्पलाइन चला रहे भारतीय दूतावास और उसके पांच वाणिज्य दूतावासों ने यूएस के विदेश मंत्रालय और नागरिकता व आव्रजन सेवाओं से संपर्क किया है ताकि भारत के छात्रों को यहां रहने को लेकर मुश्किलों का सामना न करना पड़े।

अस्थायी व्यवस्था भी की- अमेरिकी नागरिकता एवं आव्रजन सेवा ने कहा कि अगर कोई स्कूल बिना ऑनलाइन दिशा निर्देश या अन्य वैकल्पिक शिक्षण माध्यमों से अस्थायी तौर पर बंद होता है तो जब तक छात्रों की कक्षाएं बहाल नहीं हो जातीं, तब तक वे स्टूडेंट एंड एक्सचेंज विजिटर इंफोर्मेशन सिस्टम (एसईवीआईएस) में सक्रिय रहेंगे। इसमें गैर प्रवासी छात्र भाग ले सकते हैं और वह एसईवीआईएस में सक्रिय रहेंगे।

अमेरिकी सरकार की करीबी नजर

वाशिंगटन डीसी में भारतीय दूतावास ने यहां भारतीय छात्रों के लिए जारी संशोधित परामर्श में कहा, ‘अमेरिकी सरकार ने संकेत दिया है कि वह विदेशी छात्रों के लिए पैदा हुई स्थिति पर करीबी नजर रख रही है।’ परामर्श में कहा गया है कि स्टूडेंट एंड एक्सचेंज विजिटर प्रोग्राम (एसईवीपी) अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए दूरस्थ शिक्षा पर मार्गदर्शन देना जारी रखेगा।

Next Post

इटली में व्यक्ति को ठीक होने बाद फिर से हो गया कोरोना, डॉक्टर हैरान

Fri Mar 20 , 2020
रोम कोरोना का कहर रिपोर्ट के मुताबिक व्यक्ति न सिर्फ आइसोलेशन में था बल्कि इसका इलाज हुआ और डिस्चार्ज करने से एक दिन पहले ही इसमें फिर से दिखने लगे लक्षण इटली में कोरोना संक्रमण के नए मामले लगातार सामने आ रहे हैं, यहां कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या […]