भारतीयों को एयरलिफ्ट करने वाली पहली महिला पायलट बनीं स्वाति

नई दिल्ली

एअर इंडिया बोइंग 777 विमान को उड़ाकर विदेश में फंसे भारतीयों को सुरक्षित देश लाने में मदद करने वालीं कमांडर कैप्टन स्वाति रावल संकट की इस घड़ी में एक हीरो बनकर उभरी हैं। कोरोना वायरस के बीच रोम में फंसे 263 भारतीयों को एयरलिफ्ट करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कई अन्य मंत्रियों ने स्वाति की तारीफ की है। भारतीयों को विदेश से बचाकर दिल्ली लाने के साथ ही स्वाति बचाव उड़ान संचालित करने वाली पहली महिला पायलट बन गई हैं। उन्होंने जिन 263 भारतीयों को एयर लिफ्ट किया, जिनमें अधिकांश छात्र थे। कैप्टन स्वाति रावल और कैप्टन राजा चौहान ने बोइंग 777 विमान की मदद से 22 मार्च को रोम से लोगों को भारत वापस लाने के अभियान में हिस्सा लिया। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने एक ट्वीट में कैप्टन स्वाति रावल और फ्लाइट से भारतीयों को निकाले जाने की तस्वीरें साझा की हैं।

पुरी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘जब कठिन समय होता है तो दृढ़ लोग अपना काम जारी रखते हैं। कैप्टन स्वाति रावल और कैप्टन राजा चौहान के नेतृत्व में एअर इंडिया बोइंग 777 के चालक दल ने ड्यूटी के आह्वान का जवाब दिया और रोम में फंसे 263 भारतीयों को बचाने के लिए अनुकरणीय दृढ़ संकल्प प्रदर्शित किया।’

एअर इंडिया के चालक दल की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘एयर इंडिया की इस टीम पर बेहद गर्व है, जिसने साहस दिखाया है और मानवता की पुकार का जवाब दिया है। उनके उत्कृष्ट प्रयासों की भारत भर में कई लोगों ने प्रशंसा की है।

इंडियाफाइट्सकोरोना।’ पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी ट्विटर पर एअर इंडिया की टीम की सराहना की। धर्मेंद्र प्रधान ने अपनी पोस्ट में लिखा, ‘कैप्टन स्वाति रावल, कैप्टन राजा चौहान और चालक दल को सैल्यूट, जिन्होंने कॉल ऑफ ड्यूटी का जवाब दिया। रोम में फंसे 263 भारतीयों को एयरलिफ्ट करने के लिए, टीम उनके मानवीय प्रयासों के लिए प्रशंसा की हकदार है।’

पति ने कहा- गर्व है तुम पर

स्वाति के पति अजीत कुमार भारद्वाज ने ट्विटर पर एक पोस्ट में अपनी पत्नी को बधाई दी। जाहिर तौर पर उनके लिए यह गर्व का पल था। उन्होंने लिखा, ‘मैं अपनी पत्नी कैप्टन स्वाति रावल को 263 भारतीय छात्रों को बचाने के लिए रोम से दिल्ली तक रेस्क्यू फ्लाइट संचालित करने वाली पहली सिविल महिला पायलट बनने के लिए बधाई देता हूं। वास्तव में गर्व है।’ स्वाति इससे पहले भी वो खबरों में रह चुकी हैं। साल 2010 में वह एअर इंडिया की सभी महिला क्रू का हिस्सा थीं जिसने मुंबई से न्यूयॉर्क के लिए उड़ान भरी थी। वो बीते 15 सालों से विमान उड़ा रही हैं।

Next Post

12 दिन रोम में फंसे रहने के बाद भारत लौटे 262 यात्री, घर आने के लिए अभी 14 दिन और इंतजार

Tue Mar 24 , 2020
नगर संवाददाता | इंदौर सभी यात्रियों को सतर्कता के तौर पर दिल्ली में क्वारंटाइन कैंप में 14 दिन के लिए भेजा, इंदौर की छात्रा भी शामिल 12 दिन तक इटली की राजधानी रोम में फंसे रहने के बाद 262 भारतीय यात्री रविवार सुुबह दिल्ली पहुंचे। हालांकि अभी भी इन्हें अपने […]