अमेरिका में बिगड़े हालात, एक ही दिन में दस हजार से ज्यादा नए मामले आए

वॉशिंगटन

बेकाबू कोरोना स्वास्थ्य एजेंसी के स्तर जांच में हुई बड़ी लापरवाही

अमेरिका में कोरोना वायरस से हालात बिगड़ने के पीछे देश की शीर्ष स्वास्थ्य एजेंसी के स्तर पर हुई भारी लापरवाही को प्रमुख कारण बताया जा रहा है। समीक्षा में पाया गया कि जंगल में लगी आग की तरह महामारी को पूरे अमेरिका में फैलने दिया गया। अमेरिका में अब तक करीब 44 हजार लोग संक्रमित पाए गए हैं और 560 की मौत हो चुकी है। एक दिन में ही दस हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं। अब तक दुनिया भर 17000 लोग की मौत हो चुकी है।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जरूरी चिकित्सा आपूर्ति और सुरक्षात्मक उपकरणों की जमाखोरी की रोकथाम के लिए एक आदेश पर हस्ताक्षर किए हैं। ट्रंप ने इस महीने की शुरुआत में अमेरिकी नागरिकों को भरोसा दिया था कि सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) की ओर से विकसित की गई जांच उत्तम है। कोई भी जांच करा सकता है। लेकिन करीब दो माह पूर्व पहला मामला सामने आने के बाद भी अमेरिका में अब तक कई लोगों की जांच तक नहीं हो पाई है।

अमेरिकी हेल्थ एजेंसी सीडीसी के डाटा से जाहिर होता है कि गत फरवरी में कोरोना वायरस जब इस देश में अपनी जड़ें जमा रहा था तो उस दौर में सरकारी लैब में महज 352 लोगों की जांच की गई। अमेरिका में पिछले माह औसतन रोजाना एक दर्जन जांच की गईं। अब स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग अपनी गलतियों का मूल्याकंन करने के लिए आंतरिक समीक्षा में जुट गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस अदनोम घेबरेसस ने कहा, ‘आप आंखों पर पट्टी बांधकर मुकाबला नहीं कर सकते। हम अगर यह नहीं जानते कि कौन संक्रमित है तो इस महामारी को रोक नहीं सकते।’

ट्रंप बोले, मलेरिया रोधी दवाएं हो सकती हैं ‘गॉड गिफ्ट’- ट्रंप ने कहा है कि कोरोना के उपचार को लेकर मलेरिया रोधी दवाओं को परखा जा रहा है। ये दवाएं ‘गॉड गिफ्ट’ हो सकती हैं। वैज्ञानिकों ने इस तरह के दावों को लेकर आगाह किया है क्योंकि अभी यह साबित नहीं हुआ है। ट्रंप ने एलान किया था कि शासन हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन और क्लोरोक्वीन पर काम कर रहा है।

दक्षिण कोरिया…कोरोना वायरस वाले 120 मरीजों की हो गई मौत

दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस के 76 नये मामले सामने आने के साथ ही नौ लोगों की मौत हो गई है। देश में इस घातक वायरस से अब तक 120 लोगों की मौत हो चुकी है और संक्रमित लोगों की संख्या 9,037 पर पहुंच गई है। दक्षिण कोरिया के रोग नियंत्रण एवं बचाव केद्र ने कहा कि अब तक 171 मामले ऐसे हैं जो विदेश से संक्रमण लेकर देश आए हैं। यूरोप, उत्तरी अमेरिका और अन्य देशों में प्रकोप के भयावह रूप लेने के बीच अधिकारियों ने संक्रमित लोगों के देश में प्रवेश को रोकने के लिए सीमा नियंत्रण गतिविधि तेज कर दी है। करीब 7,700 मामले दक्षिणपूर्वी से जुड़े हुए बताए जा रहे हैं।

इटली…63,927 संक्रमित, 6,077 लोगों की मौत

इटली में 21 फरवरी को देश के उत्तरी क्षेत्रों में महामारी फैलने के बाद से कोविड-19 संक्रमण से संक्रमित लोगों की संख्या वर्तमान में बढ़कर 63,927 हो गई है। कोरोना वायरस इमरजेंसी का प्रबंधन देखने वाले सिविल प्रोटेक्शन डिपार्टमेंट ने कहा कि सोमवार को मौत के 601 नए मामले सामने आने के बाद मरने वालों का आंकड़ा 6,077 हो गया है। रविवार तक दर्ज किए गए 59,138 मामलों में कुल संक्रमणों की संख्या 4,789 या 8 प्रतिशत बढ़ी।

चीन…कोरोना वायरस के 78 नए मामले सामने आए

चीन में कोरोना वायरस संक्रमण के 78 नए मामले सामने आए हैं जिनमें से 74 मामले ऐसे हैं जो विदेशों से संक्रमण लेकर आए हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि कोविड-19 से सात और लोगों की मौत की बाद मृतकों की संख्या 3,277 हो गई है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने मंगलवार को बताया कि चीनी मुख्यभूमि पर सोमवार तक कुल 81,171 लोग संक्रमित थे। इनमें बीमारी से मरने वाले 3,277 लोग, अभी भी इलाज करा रहे 4,735 मरीज और सेहत में सुधार होने के बाद अस्पताल से जाने दिए गए 73,159 मरीज शामिल हैं।

Next Post

युद्ध में भी कम नहीं हुई थी ट्रेन की रफ्तार, गंभीरता को समझें और घर में ही रहें

Wed Mar 25 , 2020
नई दिल्ली गंभीरता से हाल में किए गए एक ट्वीट में रेल मंत्रालय ने नॉवेल कोरोना वायरस को लेकर हालात की गंभीरता बताते हुए लोगों को घर के भीतर ही रहने की सलाह दी है… भारत में 500 से अधिक नॉवेल कोरोना वायरस के मामले सामने आए हैं और इसके […]