कोरोना का संक्रमण छिपाने वाले अमेरिका में कहलाएंगे आतंकी

वॉशिंगटन

कोविड-19 के कारण बदले नियम दोषी सिद्ध होने पर उम्रकैद तक का प्रावधान

अमेरिका में कोरोना वायरस से निपटने के लिए बनाए गए नियमों की अनदेखी करने वालों पर अब न्याय विभाग सख्त हो गया है। नए आदेश के तहत कोरोना वायरस का खतरा दूसरों तक पहुंचाने वालों को अब यहां पर आतंकी समझा जाएगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक डिप्टी एटॉर्नी जनरल जेफरी रोसेन ने कहा है कि जानबूझ कर इस वायरस को फैलाने वालों पर आतंकी मानकर कार्रवाई की जाएगी।

माना जाएगा कि उसने ऐसा दूसरों को संक्रमित करने के लिए जान बूझकर किया है। नए नियम के तहत दोष सिद्ध होने पर उम्रकैद तक का प्रावधान है। एक लिखित आदेश में ऐसा करने वालों को बायलॉजिकल एजेंट माना जाएगा। न्यानय विभाग के तहत आने वाली सभी एजेंसियों को आदेश जारी करते हुए कहा है कि ऐसे किसी भी व्यलक्ति को देश में आतंकवाद फैलाने के तहत गिरफ्तार किया जाएगा। आदेश में उन्हों ने ये भी कहा है कि अमेरिका के नागरिक अब ऐसे लापरवाह लोगों को जो इस वायरस को हथियार बना रहे हैं और दूसरों को संकट में डाल रहे हैं, किसी भी सूरत से बर्दाश्ति नहीं करेंगे। न्यूरयॉर्क में पिछले दिनों भीड़-भाड़ वाली तस्वीबरों के सामने आने के बाद नियमों को और कड़ा भी किया गया था लेकिन उसका भी लोगों पर कोई असर होता दिखाई नहीं दे रहा है। वहीं दूसरी तरफ राष्ट्र पति ट्रंप ये तो मान रहे हैं कि सरकार के समक्ष इस वायरस से लड़ने की चुनौती काफी बड़ी है लेकिन इसके बावजूद वो देश में लॉकडाउन करने को तैयार नहीं हैं।

परेशान ट्रंप प्रेस वार्ता बीच में ही छोड़कर चल दिए

वॉशिंगटन में शुक्रवार को कोरोना वायरस को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक प्रेस वार्ता की। लेकिन तेजी से बढ़ते संक्रमित मामलों के कारण ट्रंप इतने निराश थे कि बीच में ही कोन्फ्रेंस छोड़कर चल दिए। राष्ट्रपति को ऐसे जाता देख राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान के एलर्जी और संक्रामक रोगों के निदेशक डॉ. एंथोनी फौसी हैरान रह गए।

खांसने पर शख्स पर दर्ज हुआ आतंकी खतरे का मामला

न्यूयॉर्क। कोरोना वायरस को लेकर पूरी दुनिया में इस कदर खौफ पसरा है कि खांसना तक जुर्म हो गया है। एक व्यक्ति के सुपरमार्केट के कर्मचारी के ऊपर खांसने के आरोप में उस पर आतंकी खतरे का मामला दर्ज हो गया। अमेरिकी शहर न्यूजर्सी के एक शख्स के ऊपर आतंकी खतरे का मामला सिर्फ इसलिए दर्ज हुआ है क्योंकि वो एक सुपरमार्केट में जाकर कर्मचारी के सामने खांस दिया था। खांसने के बाद उसने बताया कि वो कोरोना वायरस से संक्रमित है। इसके बाद न्यूजर्सी के प्रशासन ने उसके ऊपर आतंकी खतरे का मामला दर्ज कर लिया। रॉयटर के हवाले से बताया जा रहा है कि 50 साल के जॉर्ज फाल्कन के ऊपर आंतकी खतरे का चार्ज लगाया गया है। न्यूजर्सी के अटार्नी जनरल के दफ्तर ने इस बात की पुष्टि की है।

अमेरिका ने चीन को छोड़ा पीछे

न्यूयॉर्क, न्यूजर्सी, कैलिफ़ोर्निया और लुजीयाना सहित अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण स्थिति तेज़ी से बिगड़ती जा रही है। अमेरिका में पिछले चौबीस घंटों में सर्वाधिक पंद्रह हज़ार नए मामले दर्ज हुए जो दुनिया के किसी भी हिस्से की तुलना में सब से अधिक हैं। अमेरिका में कोरोना के 85000 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। चीन में अधिकतम 8,1700 मामले दर्ज हुए हैं। यूरोप में कोरोना के कारण तबाही का सिलसिला जारी है। दुनिया भर में गुरुवार की दोपहर तक पांच लाख 30 हज़ार मामले दर्ज हो चुके हैं, जबकि क़रीब 24,000 मौतें हो चुकी हैं। इनमें 1,23, 380 कोरोना मरीज़ स्वस्थ हो कर घर लौटे हैं। लेकिन बीस हज़ार मरीज़ों की हालत नाज़ुक बनी हुई है। इटली में पिछले 24 घंटों में 6203 नए मामले दर्ज हुए, जबकि 712 मौतें हो गईं। इटली में मौतों का आँकड़ा आठ हज़ार से ऊपर पहुँच गया है।

Next Post

प्रत्येक तीन किलोमीटर पर एक विशेष कोरोना हॉस्पिटल जरूरी

Sat Mar 28 , 2020
विनोद शर्मा | इंदौर इंदौर कोरोना संक्रमण में पूरे देश में हाई अलर्ट पर है। शहर में अब तक 17 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। संदिग्धों की संख्या लगातार बढ़ रही है। पॉजिटिव मरीजों के घरों को देखे तो संक्रमण पूरे शहर में फैला दिखेगा। प्रशासन ने संक्रमितों के घर से […]