कैसी ज़िंदगी होती है बिना वजाईना के पैदा हुई लड़की की

नेहा श्रीवास्तव, इंदौर।

हमारा दिमाग बहुत कॉम्प्लिकेटिव है कुछ बातों को लेकर हम इतने सजग हैं कि हमने कुछ बातों को लेकर एक स्ट्रक्चर सेट किया हुआ है और उसपर ठप्पा भी लगा दिया है कि हम इस दायरे के आगे नहीं सोच सकते। जैसे ही दायरे से बाहर कोई बात हमें बताई या सुनाई जाती है हम तुरंत अनकंफर्टेबल हो जाते हैं, जो स्वाभाविक है।

मैंने भी आज सुबह ऐसी ही एक बात पढ़ी जिसमें लिखा था एक लड़की है जो वजाईना, वॉम्ब, सर्विक्स के बिना ही पैदा हुई है। हां आपकी तरह मैं भी शॉक्ड थी। अब मुझे बताने कि ज़रूरत नहीं है कि एक लड़की के जीवन में इन तीन पार्ट्स का महत्व कितना ज़्यादा होता है। अगर भारतीय समाज की माने तो लड़की का अस्तित्व ही वजाईना और वॉम्ब है इसके बिना वो लड़की की कल्पना भी नहीं कर सकते।

दरअसल ऐसे जन्म को एमआरकेएच नाम की कंडिशन कही जाती है, ये एक ऐसी कंडिशन है जिसमें महिला के शरीर में गर्माशय और वजाइना नहीं होता है। सिर्फ़ इतना ही नहीं इस कंडिशन में शरीर में सिर्फ़ एक ही किडनी भी होती है। एक औरत जिसे एमआरकेएच हो, उसे कभी पीरियड्स भी नहीं हो सकते।

इस सिचुएशन से गुजरने वाली महिला का नाम केन्यन हैं जो 29 साल की हैं। उनके इस हालात में अगर कोई उनके साथ मेंटली और फिज़िकली हर वक़्त मौजूद था तो वो उनकी मां थीं। जिन्होंने हर वक़्त उनका साथ दिया। ये बात केन्यन को लगभग 17 साल की उम्र में पता चली।

केन्यन क्या कहती हैं अपनी लाइफ को लेकर

केन्यन का पीरियड्स को लेकर कहना ही कि मेरे शरीर में गर्भाशय नहीं है तो मुझे कभी भी पीरियड्स भी नहीं हो सकते लेकिन अगर आपको लगता है कि ये सामान्य नहीं है तो मैं कहना चाहती हूं कि यह बेहद सामान्य है और मैं इस बारे में बिल्कुल भी बुरा महसूस नहीं करती हूं।

अपने सिचुएशन के बारे में केन्यन बताती हैं, “मैं कई लोगों के साथ रिलेशनशिप में रह चुकी हूं लेकिन मैं इस रिश्ते में बहुत आगे बढ़ाने से पहले उन्हें अपनी स्थिति के बारे में स्पष्ट कर देना चाहती थी। अगर वे इसे स्वीकार करना चाहते हैं तो वे इसे स्वीकार करेंगे। लेकिन आप तो जानते ही हैं कि इंसान तो इंसान ही होते हैं, मुझे बहुत से लोग ऐसे मिले जिन्हें जैसे ही इस बारे में पता चला वो चले गए।”

उन्होंने आगे बताया बहुत से लोगों ने मुझसे कहा कि मैं झूठ बोल रही हूं और बहुत से लोगों को तो ऐसा भी लगा कि मैं उनसे पीछा छुड़ाने के लिए ऐसा कर रही हूं। फिलहाल अभी मैं किसी के भी साथ रिलेशनशिप में नहीं हूं लेकिन मैं ये मानती हूं कि जो भी हो रहा है वो ईश्वर कर रहे हैं।

लेकिन रही बात सेक्स की तो, साल 2018 में मैंने वजाइनल कनाल बनाने के लिए सर्जरी करवाई। इस बात को एक साल से ऊपर हो चुके हैं लेकिन मैं अभी सेक्स के लिए तैयार नहीं हूं, ना ही मैं शादी के लिए तैयार हूं। अगर हमें लगेगा कि हमें बच्चे की चाहत है तो हम बच्चे गोद ले सकते हैं।

खुद को एक्सेप्ट करना बड़ी जिम्मेदारी होती है

केन्यन ने अपने आप को पूरी तरह से एक्सेप्ट कर लिया है। वो अपनी सिचुएशन को लेकर बेहद सामान्य हैं। वो अपने इस हालत पर दुःखी होने के बजाए खुश हैं और अपने लाइफ का हर एक मोमेंट इंजॉय करती हैं।

केन्यन को अपनी कहानी सबके सामने शेयर करने के लिए दस साल लग गए। बहुत से लोग हैं जो यह समझते ही नहीं हैं कि एमआरकेएच क्या है ऐसे लोगों को केन्यन इस बारे में लोगों को जागरूक करना चाहती हैं।

ख़बर इनपुट-बीबीसी

Next Post

ट्रेड यूनियन की राजनीति को लेकर दुविधा में थे नेहरू

Sun Mar 29 , 2020
आनंद मोहन माथुर। देश ने एक बार फिर करवट ली और क्रांतिकारी शक्तियां फिर जोर-शोर से उभरीं। मजदूर, किसान और नौजवान अपने अपने ढंग से संगठित हो रहे थे। जवाहरलाल ने इस परिस्थितियों का चित्रण किया है। चीन में क्योमिन तांग पार्टी, भारत में कांग्रेस जैसी ही राष्ट्रीय संस्था थी, […]