दिल्ली : 200 जमातियों में कोरोना की आशंका, अस्पताल में भर्ती

नई दिल्ली

निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात के मरकज में छिपे थे, पुलिस ने छापा मारकर पकड़ा, मौलाना पर केस

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात के मरकज (केंद्र) में छिपे 200 जमातियों को पुलिस ने सोमवार अलसुबह छापा मारकर पकड़ा। इन सभी को कोरोना संदिग्ध मानकर दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

लॉकडाउन के बावजूद सात देशों के करीब पांच सौ जमाती छिपे बैठे थे। पुलिस जब यहां पहुंची तो भगदड़-सी मच गई लेकिन करीब 200 लोग पकड़ में आ गए। बाकी तितर-बितर हुए जमातियों पर ड्रोन से नजर रखकर उनकी तलाश की जा रही है। पुलिस ने सोमवार को पूरे निजामुद्दीन इलाके को सील कर दिया है। निजामुद्दीन के कुछ लोगों का दावा है कि मरकज में मौजूद कई लोगों को बुखार और जुकाम की शिकायत थी। दिल्ली सरकार ने पुलिस से निजामुद्दीन मरकज के मौलाना के खिलाफ एफआईआर दर्ज के आदेश दिए हैं।

छह लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने की आशंका : अस्पतालों में दाखिल 200 लोगों में से छह के कोरोना पॉजिटिव की कथित रिपोर्ट है। हालांकि तब्लीगी मरकज के प्रवक्ता ने इस खबर की फिलहाल पुष्टि नहीं की है। जो 200 लोग अस्पतालों में दाखिल किए गए हैं, वे भी सब के सब 60 से ऊपर की ही उम्र वाले हैं।

मरकज में आए दो बुजुर्ग की मौत

निजामुद्दीन इलाके में स्थित तब्लीगी मरकज में पहुंचे दो बुजुर्गों की चार दिन के अंदर संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि ये इन्हें कोरोना था या नहीं। यहां पहुंचे 200 लोगों को हल्की खांसी-जुकाम की शिकायत के बाद दिल्ली के अलग-अलग अस्तपालों में दाखिल कराया गया है। जिन दोनों बुजुर्गों की मौत हुई है, उनमें एक तमिलनाडु और दूसरा कश्मीर घाटी का रहने वाला था।

Next Post

निजामुद्दीन मरकज़ से रानीपुरा तक कहानियां एक जैसी

Tue Mar 31 , 2020
हेमंत शर्मा एक धर्मनिरपेक्ष व्यक्ति की ‘सांप्रदायिक’ टिप्पणी इस संपादकीय के बाद शायद “प्रजातंत्र’ को सांप्रदायिक करार दे दिया जाए। कुछ लोग यह भी कहेंगे कि देखिए, यही है आजकल की हिंदी पत्रकारिता का असली चेहरा। जिसमें मुसलमानों पर निशाना साधा जा रहा है। इन अखबारों को पढ़ना बंद कर […]