एफबीआई का दावा, संदिग्ध वायरस लेकर यूएस आए थे चीनी वैज्ञानिक

वॉशिंगटन

चौंकाने वाला खुलासा

अमेरिका की खुफिया एजेंसी एफबीआई की एक चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई है जो कि कोरोना केस सामने आने से दो महीने पहले पेश की गई थी। एफबीआई का दावा है कि नवंबर 2018 में अमेरिका के कस्टम ऐंड बॉर्डर प्रॉटेक्शन एजेंट ने डेट्रॉयट मेट्रो एयरपोर्ट पर एक चीनी बायोलॉजिस्ट को रोका था जिसके पास एंटीबॉडीज के लेबल वाली शीशी थी।

बायोलॉजिस्ट ने एजेंट्स को बताया था कि चीन में उनके एक सहकर्मी ने उन्हें अमेरिकी संस्थान में एक शोधकर्मी को शीशी डिलिवर करने को दी है। शीशी की जांच करने पर कस्टम एजेंट हैरान रह गए। एफबीआई की खुफिया रिपोर्ट में बताया गया है, ‘शीशी पर लिखी राइटिंग की जांच के बाद जांचकर्मी ने यह माना कि शीशी के अंदर मौजूद सामग्री मिडल ईस्ट रेस्पायरेटरी सिंड्राम यानी मर्स और सिवियर एक्युट रेस्पायरेटरी सिंड्राम यानी की सार्स से जुड़ी है।’ एफबीआई की वेपन ऑफ मास डिस्ट्रक्शन डायरेक्टर (डब्ल्यूएमडीडी) के केमिकल और बायोलॉजिकल इंटेलिजेंस यूनिट ने यह रिपोर्ट लिखी है। हालांकि, उस चीनी वैज्ञानिक का नाम उसमें शामिल नहीं है। लेकिन अमेरिका इस निष्कर्ष पर पहुंचा था कि इस तरह के ही दो और केस सामने आए हैं जो कि परेशान करने वाले हैं।

Next Post

कोरोना के खिलाफ जंग में हम कितने कामयाब, 6 को चलेगा पता

Wed Apr 1 , 2020
नई दिल्ली देश में दो महीने पहले कोरोना वायरस से संक्रमण का पहला मामला सामने आया था। अब करीब 1397 लोगों में कोविड-19 बीमारी की पुष्टि हो चुकी है। भारत उन देशों में शामिल है जहां पिछले हफ्ते मरीजों की तादाद 1,000 पर पहुंच गई। वहीं, यह 1,000 का आंकड़ा […]