28 हजार घरों में आज बंटेगा किराना

नगर संवाददाता | इंदौर

निगम ने दावा किया कि जो ऑर्डर मिले हैं उसके तहत रविवार से सप्लाय शुरू कर देंगे, हालांिक एनजीओ कर्मचारियों ने ड्यूटी पूरी होने का हवाला देकर कई लोगों के ऑर्डर नहीं लिए

शहर में लगातार लॉकडाउन के कारण मध्यम वर्गीय परिवारों में राशन सामग्री खत्म होने लगी है। नगर निगम और जिला प्रशासन द्वारा चार दिन से किराना सामान की होम डिलिवरी शुरू करने की प्लानिंग के बाद शनिवार को कचरा गाड़ियों के माध्यम से रहवासियों से डोर-टू-डोर किराना सामान का ऑर्डर लेने की शुरुआत की गई। निगम ने दावा किया कि सभी 85 वार्डों में 28 हजार लोगों से ऑर्डर लिए गए, जबकि हकीकत यह है कि कचरा गाड़ियों के साथ चल रहे एनजीओ कर्मचारियों ने बीच में ही अपनी ड्यूटी खत्म होने का हवाला देते हुए ऑर्डर लेने से इनकार कर दिया।

प्रशासन द्वारा कर्फ्यू पास जारी न करने के कारण शहर के बड़े किराना बाजार शनिवार को भी अपनी सेवाएं शुरू नहीं कर सके। लगभग सभी क्षेत्रों में किराना होम डिलिवरी करने वाली कंपनी आउटडोर एप पर 13 अप्रैल तक ऑर्डर की बुकिंग प्रतिबंधित बताई जा रही है। शहरवासी 11 दिन से लॉकडाउन का पालन करते आ रहे हैं। इसके चलते अब उनके समक्ष किराना सामान का संकट गहराने लगा है। दूसरी ओर निगम आयुक्त आशीष सिंह ने दावा किया कि शनिवार को 85 वार्डों के 467 कचरा गाड़ी रूट पर 28 हजार लोगों से किराना सामान के ऑर्डर लिए गए। सभी ऑर्डर संबंधित किराना व्यापारियों तक पहुंचाए जा रहे हैं और संभवत: रविवार शाम तक लोगों को होम डिलिवरी के जरिये किराना सामान मिल जाएगा। हालांकि उन्होंने इसमें देरी होने की आशंका भी जताई।

इधर, शहर के बड़े किराना बाजार और व्यापारी, जो होम डिलिवरी के माध्यम से लोगों के घरों तक किराना सामान पहुंचाना चाहते हैं, को प्रशासन की ओर से वाहन पास जारी नहीं किए गए। बंगाली चौराहा कनाड़िया रोड के किराना व्यापारी रीतेश सैनी ने बताया वे पूर्वी क्षेत्र में सभी जगह होम डिलिवरी कराने में सक्षम हैं। निगम अधिकारियों से लगातार संपर्क करने के बावजूद कर्फ्यू पास जारी नहीं किए जा रहे, जिसके चलते यह सेवा आम लोगों के लिए शुरू नहीं हो पा रही। मामले में कई बार नोडल अधिकारी शृंगार श्रीवास्तव से भी संपर्क करना चाहा, लेकिन उन्होंने बात नहीं की।

आज से 100 जवान करेंगे निगरानी- डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन गाड़ियों के साथ किराना सामान के ऑर्डर लेने में बरती जा रही लापरवाही और धारा 144 का उल्लंघन रहवासियों द्वारा नहीं किया जाए, इसके लिए डीआईजी हरिनारायणा चारी मिश्र ने पुलिस के 100 जवानों को कचरा गाड़ी के साथ रहने के निर्देश दिए हैं। इसके तहत एक कचरा गाड़ी के साथ दो पुलिस जवान चलेंगे।

ग्राउंड रियलिटी : समय पूरा हो गया, अब नहीं लेंगे ऑर्डर

निगम द्वारा होम डिलिवरी के लिए कचरा गाड़ियों के माध्यम से डोर-टू-डोर ऑर्डर लेने की व्यवस्था शनिवार से शुरू की गई, लेकिन इसके लिए नियुक्त किए गए एनजीओ के कर्मचारी लापरवाही बरत रहे हैं। ऐसे ही एक कर्मचारी से दोपहर 12.55 बजे जब उसके मोबाइल (81033-44774) पर बात की तो उसने अपनी ड्यूटी का समय पूरा होने की बात कहकर ऑर्डर लेने से साफ इनकार कर दिया-

अधिक दाम नहीं वसूल सकेंगे व्यापारी

कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया विभिन्न माध्यमों से जानकारी मिली है कि कुछ किराना व्यापारियों द्वारा लॉकडाउन के पूर्व किराना सप्लाय अधिक दरों पर किया गया। यह कालाबाजारी की श्रेणी में आता है। सभी किराना सामग्री सप्लायकर्ताओं एवं डीलर्स को निर्देशित किया गया है कि इस प्रकार की कालाबाजारी पर सख्त प्रतिबंध रहेगा।

311 एप, मेयर हेल्पलाइन पर ले सकेंगे मददरहवासियों को शिकायत होने पर इंदौर 311 एप, मेयर हेल्पलाइन पर इसकी शिकायत दर्ज कराई जा सकती है। इसके अलावा नगर निगम कंट्रोल रूम नंबर 0731-4030100, 0731-4071717, 0731-4051515 पर भी शिकायत कर सकते हैं।

दुकान से किराना बेचने व खरीदने वालों पर होगा केस दर्ज- प्रशासन के निर्देशानुसार अगर कहीं किराना दुकान खुली पाई जाती है तो प्रशासन द्वारा धारा 144 के उल्लंघन का प्रकरण दर्ज किया जाएगा। यदि दुकान पर सामान खरीदते हुए रहवासी मिलते हैं तो उन पर भी प्रतिबंधात्मक आदेश के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज किया जाएगा।

Next Post

ठग्गू बाई के दुःख ने रमाबाई को भारत की पहली लिबरल फेमिनिस्ट बना दिया

Sun Apr 5 , 2020
नेहा श्रीवास्तव, इंदौर। औरतों ने हमेशा से ही लोगों को आकर्षित किया है, उनपर गहरा प्रभाव डाला है। औरतों ने जब भी अपनी बुद्धिमत्ता से काम लिया है वो आम से महान की कैटगरी में शामिल हुईं हैं। अगर ढंग से याद किया जाए और किसी से पूछा जाए, खुद […]