मलेशिया भाग रहे जमात के आठ लोग दिल्ली एयरपोर्ट पर पकड़े गए

नई दिल्ली

केंद्र सरकार ने कहा कि तबलीगी जमात की वजह से औसतन 4 दिन में दोगुने हुए केस, नहीं तो औसतन 7 दिन में होते

देश में मौजूद तबलीगी जमात के विदेशी सदस्य अब भागने की फिराक में हैं। कोरोना वायरस के शिकार लोगों में जमातियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। केंद्र और राज्य सरकारें भी इसे लेकर सतर्क हैं। रविवार को इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से तबलीगी जमात के 8 विदेशी सदस्यों को पकड़ा गया। इमिग्रेशन डिपार्टमेंट के सूत्रों ने बताया कि जमात के आठों लोग मलेशिया के नागरिक हैं और वहां भागने की तैयारी में थे। आठों मलेशिया जाने वाली मेलिंडो एयरवेज की फ्लाइट पकड़ने वाले थे। बता दें कि इस समय सभी फ्लाइट सस्पेंड हैं, लेकिन ये बचाव वाली फ्लाइट है, जिसके जरिए ये लोग देश से निकलने वाले थे। उधर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के ज्वाइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने कहा कि तबलीगी जमात का मामला नहीं होता तो देश में संक्रमण की दर काफी धीमी होती। अग्रवाल ने कहा, ‘कोविड-19 के मामले वर्तमान में औसतन 4.1 दिन में दोगुने हो गए हैं, अगर तबलीगी जमात नहीं होता तो मामले दोगुने होने में औसतन 7.4 दिन का समय लगता।’

सूत्रों ने बताया कि एयरपोर्ट से पकड़े गए जमात के आठों लोग दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में छुपे हुए थे और रविवार को देश से भागने के लिए दिल्ली एयरपोर्ट पर मिले। पूछताछ के बाद दिल्ली पुलिस और स्वास्थ्य विभाग इनके खिलाफ एक्शन लेगा। दरअसल, सभी तबलीगी जमात के सदस्य हैं, इसलिए ऐसा शक है कि ये निज़ामुद्दीन मरकज़ में हुए मजहबी जलसे भी शामिल हुए होंगे। दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की संख्या रविवार को बढ़कर 503 हो गई। 58 नए मामले सामने आए हैं। इनमें से 19 मरीज निज़ामुद्दीन मरकज़ में शामिल हुए थे। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में अब तक कोरोना के कुल 3577 मामले सामने आए हैं जिनमें से 212 लोग ठीक हुए हैं। वहीं 83 लोगों की मौत हो चुकी है। देश में एक दिन में 505 नए मामले आए हैं।

Next Post

आधी दुनिया घरों में बंद, धरती का कंपन 50% तक घटा

Mon Apr 6 , 2020
ब्रुसेल्स लॉकडाउन के दौरान पेरिस में एफिल टावर के सामने अल्मा ब्रिज पर पसरा सन्नाटा। कोरोना संकट के बीच अधिकांश देशों में या तो लॉकडाउन है अथवा लोगों को घरों से बाहर नहीं निकलने के आदेश हैं। ऐसे में करीब चार अरब की आबादी वाली आधी दुनिया घरों में बंद […]