आधी दुनिया घरों में बंद, धरती का कंपन 50% तक घटा

ब्रुसेल्स

लॉकडाउन के दौरान पेरिस में एफिल टावर के सामने अल्मा ब्रिज पर पसरा सन्नाटा।

कोरोना संकट के बीच अधिकांश देशों में या तो लॉकडाउन है अथवा लोगों को घरों से बाहर नहीं निकलने के आदेश हैं। ऐसे में करीब चार अरब की आबादी वाली आधी दुनिया घरों में बंद है। परिवहन व उद्योग धंधों की रफ्तार भी थमी है। इन सबके चलते भूगर्भ वैज्ञानिकों ने पाया है कि यह शांति धरती की ऊपरी परत पर कंपन का स्तर बड़ी मात्रा में घटा रही है। बेल्जियम में रॉयल ऑब्जर्वेटरी के भूविज्ञानी थॉमस लेकोक ने कहा, ये कंपन बसों, कारों, ट्रेनों या फैक्ट्रियों के चलने से पैदा होते हैं। अकेले ब्रुसेल्स में ही मार्च में धरती का कंपन 30 से 50% तक कम दर्ज हुआ।

अमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों ने भी इसकी पुष्टि की है कि पृथ्वी ग्रह के चार अरब लोगों ने अपनी गतिविधियां रोक दी हैं। इसका असर यह हुआ है कि भूकंप विज्ञानी इस वक्त छोटी से छोटी भूगर्भीय हलचल का भी पता लगा सकते हैं। लेकोक ने कहा, यह सब कम शोर से संभव हो पाया है। बेल्जियम स्थित रॉयल ऑब्जर्वेटरी के मुताबिक, भूकंप वैज्ञानिक (सीस्मोलॉजिस्ट) धरती के कंपनों का पता लगाने के लिए जमीन के अंदर बने केंद्रों का उपयोग करते हैं। लेकिन, वर्तमान में धरती में छाई शांति के कारण इसे बाहर से भी उतनी ही अच्छी तरह सुना जा रहा है जितनी अच्छी तरह ये नीचे सुनाई देती हैं।

स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि घरों में बंद रहना कोरोना वायरस को फैलने देने से रोकने का एकमात्र सुरक्षित विकल्प है। जबकि अमेरिका सरकार ने अपनी आधिकारिक नीति घोषित करने में लगातार देरी की है। इसके चलते लॉस एंजिलिस, न्यूयॉर्क, कैलिफोर्निया, उत्तरी कैरोलिना आदि कई राज्यों को अपने ही स्तर पर लोगों को घरों में ही रहने के आदेश देने पड़े हैं।

नियमों का पालन कर रहे आम लोग

भूगर्भ विज्ञानी लेकोक ने कहा कि धरती के ऊपरी परत के कंपन में आई कमी यह दर्शाता है कि पूरी दुनिया में लोग लॉकडाउन के नियमों का पालन कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि धरती के कंपन में आई कमी के आंकड़ों से इस बात का निर्धारण किया जा सकता है कि किस देश के लोग लॉकडाउन के नियमों का ज्यादा पालन कर रहे हैं।

Next Post

तीन दिन में एक ही परिवार के दो सदस्यों की बिना इलाज मौत

Mon Apr 6 , 2020
कीर्ति राणा | इंदौर मेडिकल अनदेखी की इंतहा : तीनों अस्पतालों ने भगा दिया कोरोना के भय का आलम यह है कि सामान्य मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने या उनका उपचार करने से भी स्थानीय अस्पताल आनाकानी कर रहे हैं। पुलिस और प्रशासन का सहयोग भी ऐसे मरीजों की […]